Tuesday , December 12 2017

नागरजुनासागर में बर्क़ी की पैदावार रोक दी गई

रियासत तेलंगाना में बर्क़ी डीमांड (इस्तेमाल) में कमी वाक़्ये हुई है क्युंकि बारिश होने के बाइस बर्क़ी के इस्तेमाल में कमी हुई है और इस तरह 400 मैगावाट बर्क़ी के इस्तेमाल में कमी हुई है।

रियासत तेलंगाना में बर्क़ी डीमांड (इस्तेमाल) में कमी वाक़्ये हुई है क्युंकि बारिश होने के बाइस बर्क़ी के इस्तेमाल में कमी हुई है और इस तरह 400 मैगावाट बर्क़ी के इस्तेमाल में कमी हुई है।

महिकमा बर्क़ी के आला ज़राए ने ये बात बताई। और कहा कि पाँच मिलियन यूनिट्स बर्क़ी की ख़रीदी की गई हाईडल बर्क़ी पैदावारी प्रोजेक्टस में 8 ता 10 मिलियन यूनिट्स बर्क़ी की पैदावार में इज़ाफ़ा हुआ है।

इसी दौरान बताया जाता हैके नागारजुनासागर बर्क़ी पैदावारी प्रोजेक्ट में बर्क़ी पैदावार को ओहदेदारों ने रोक दिया है पोली चिन्तला के ग़र्क़ ( डूबने के) होने के पेशे नज़र एहतियाती तौर पर बर्क़ी पैदावार को रोक दिए जाने का ओहदेदारों ने इज़हार किया है नागारजुनासागर प्रोजेक्ट में इख़राज ( पानी की आमद 15 हज़ार और इख़राज 31.345 क्यूसिकस बताई जाती है।

दूसरी तरफ़ श्रीसेलम बाएं बाज़ू बर्क़ी पैदावारी में बर्क़ी पैदावार जारी है । सिरी सेलम पराजकट में आमद 4.479 क्यूसेकस रहने और इख़राज 1700 क्यूसेकस है । सिरी सेलम प्रोजेक्ट की मौजूदा सतह आब 856.40 फिट है जबकि श्रीसेलमल प्रोजेक्ट की मुकम्मिल सतह आप 885 फिट है।

TOPPOPULARRECENT