नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन में घायल अबरार की मौत

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन में घायल अबरार की मौत

फीरोजाबाद – नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में प्रदर्शन के दौरान बीस दिसम्बर को हुए उपद्रव में घायल एक युवक की मौत हो जाने के बाद हिंसा में कुल मृतक संख्या अब छह से बढक़र सात हो गई है। पुलिस अधीक्षक (शहर) प्रबल प्रताप सिंह ने बताया कि 26 वर्षीय अबरार निवासी मसरूरगंज थाना रसूलपुर फिरोजाबाद बीस दिसम्बर को घायल हो गया था जिसका इलाज दिल्ली में हो रहा था और 10 जनवरी को वह अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद लौटा था। उसकी रविवार को मौत हो गई।

एसपी सिटी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसकी मृत्यु किन कारणों से हुई। शव का पोस्टमार्टम रविवार रात को जिला अस्पताल में कराया गया और पुलिस की चाक-चौबंद व्यवस्था में देर रात मोहम्मदगंज कब्रिस्तान में शांतिपूर्ण एवं गमगीन माहौल में शव को दफनाया गया।

गौरतलब है कि फिरोजाबाद में बीस दिसम्बर को जुमे की नमाज़ के बाद थाना दक्षिण क्षेत्र नालबंद चौकी से उपद्रव की शुरुआत हुई थी। थाना रसूलपुर क्षेत्र नैनी चौराहे पर भी उपद्रव हुआ जिसमें अबरार गोली लगने से घायल हो गया था।
उस दिन आगजनी, तोडफ़ोड़, पथराव व गोलीबारी की घटनाओं में पुलिसकर्मी एवं अन्य आम लोग घायल हो गए थे। पहले दिन दो लोगों की मौत हो गई थी और बाद में कुल मृतक संख्या छ: हो गई थी।

घटना के 23 दिन बाद अबरार की मृत्यु हो जाने से अब तक मरने वालों की संख्या सात हो गई है।मृतक के परिजनों का कहना है कि अबरार बेलदारी (मजदूरी) करके वापस आ रहा था उसी दौरान उसे गोली लगी और वह गंभीर रूप से घायल हो गया था जिसका इलाज दिल्ली के अपोलो अस्पताल में हो रहा था।

Top Stories