Tuesday , June 19 2018

नाम के बाद तिवारी की विरासत भी चाहते रोहित

एनडी तिवारी का नाम लेने के बाद रोहित शेखर अब उनकी सियासी विरासत पर भी दावा ठोकने को तैयार हैं। लंबी लड़ाई से थकने के बाद 90 साल की उम्र में एनडी तिवारी ने आवामी तौर पर मान लिया कि रोहित शेखर उनके फरज़ंद हैं।

एनडी तिवारी का नाम लेने के बाद रोहित शेखर अब उनकी सियासी विरासत पर भी दावा ठोकने को तैयार हैं। लंबी लड़ाई से थकने के बाद 90 साल की उम्र में एनडी तिवारी ने आवामी तौर पर मान लिया कि रोहित शेखर उनके फरज़ंद हैं।

40 साल के अपने बेटे को सियासी विरासत सौंपने की भी एनडी तिवारी ने ख्वाहिश ज़ाहिर किये हैं। कांग्रेस सदर सोनिया गांधी से एनडी तिवारी ने मुलाकात का वक्त मांगे है ।

मालू हुआ है कि एनडी तिवारी के बेटे कुबूल करने के बाद रोहित शेखर ने होली उनके साथ ही मनाई, साथ ही मुस्तकबिल की सियासी हिकमत अमली भी तय की। रोहित शेखर सियासत में आने की अपनी ख्वाहिश जता चुके हैं। बताया जाता है कि तिवारी की रिवायती सीट नैनीताल पर शेखर की नजर है।

ज़राये के मुताबिक खुद तिवारी भी इस बात के लिए मान गए हैं। ज़राये के मुताबिक इसी बाबत तिवारी ने कांग्रेस की सदर सोनिया गांधी से मिलने का वक्त मांगा है। हालांकि अभी दस जनपथ से उनके मिलने का वक्त मुकर्रर नहीं हुआ है, लेकिन वह दिल्ली में इस मुलाकात की उम्मीद में 19 व 20 मार्च का दिन गुजारेंगे । इसके बाद तिवारी 21 से 31 मार्च तक दस दिन का दौरा भी करेंगे।

उनके दौरे की शुरुआत काठगोदाम से होगी। इस बारे में रोहित शेखर ने कहा कि लोग चाहते हैं कि उनके वालिद एनडी तिवारी वहां से इलेक्शन लड़ें। बकौल रोहित उनकी भी दिली ख्वाहिश यही है। हालांकि, रोहित शेखर ने यह भी साफ कर दिया कि अगर उनके वालिद उनसे इलेक्शन लड़ने के लिए कहते हैं, तो वह तैयार हैं।

जाहिर है कि वालिद का नाम हासिल करने के बाद अब रोहित उनकी सियासी जमीन पाने की कोशिश कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT