Thursday , December 14 2017

नारीन अफरीन: कोबानी में कुर्द जंगजूओं की ख़ातून कमांडर

शाम और तुर्की की सरहद पर वाक़े कुर्द अक्सरीयती इलाक़े ऐनुल अरब अल मारूफ़ कोबानी में दौलते इस्लामी के शिद्दत पसंद ताक़त का भरपूर इस्तेमाल करते हुए आगे बढ़ रहे हैं, उन का मुक़ाबला करने वाले कुर्द जंगजूओं के एक ग्रुप की क़ियादत एक नौजवान ख़

शाम और तुर्की की सरहद पर वाक़े कुर्द अक्सरीयती इलाक़े ऐनुल अरब अल मारूफ़ कोबानी में दौलते इस्लामी के शिद्दत पसंद ताक़त का भरपूर इस्तेमाल करते हुए आगे बढ़ रहे हैं, उन का मुक़ाबला करने वाले कुर्द जंगजूओं के एक ग्रुप की क़ियादत एक नौजवान ख़ातून कर रही है।

मर्दाना सिफ़ात की हामिल बहादुर दोशीज़ा का असल नाम मीसा अबदो है लेकिन उस ने अपना फ़ौजी कोड नारीन अफरीन रखा है और मैदाने जंग में उसे इसी नाम से जाना जाता है।

लंदन से शाम में इंसानी हुक़ूक़ की सूरते हाल पर नज़र रखने वाली ऑब्ज़र्वेट्री के डायरेक्टर रामी अब्दुर्रहमान का कहना है कि नारीन अफरीन क़ौमी दिफ़ा ब्रिगेड की कमान कर रही है और कुर्दों के इस ग्रुप ने दाअशी जंगजूओं की कोबानी में मुसलसल पेशक़दमी में शदीद मुज़ाहमत की।

क़ौमी दिफ़ा नामी जिस ब्रिगेड की ये कमान कर रही है, उस के साथ एक मर्द कमांडर महमूद बर्ख़दान भी जंगजूओं की क़ियादत में उस की मदद कर रहा है।

TOPPOPULARRECENT