Saturday , December 16 2017

नितिन गडकरी से मुस्ताफ़ी होने यशवंत सिन्हा का मुतालिबा

नई दिल्ली, २१ नवंबर: (पीटीआई) सदर बी जे पी नितिन गडकरी को आज पार्टी के एक और सीनीयर लीडर यशवंत सिन्हा ने तन्क़ीदों का निशाना बनाया और फ़िलफ़ौर पार्टी सदारती ओहदा से मुस्ताफ़ी होने का मुतालिबा किया। उन्होंने कहा कि बी जे पी सदर फ़ी इलावा क

नई दिल्ली, २१ नवंबर: (पीटीआई) सदर बी जे पी नितिन गडकरी को आज पार्टी के एक और सीनीयर लीडर यशवंत सिन्हा ने तन्क़ीदों का निशाना बनाया और फ़िलफ़ौर पार्टी सदारती ओहदा से मुस्ताफ़ी होने का मुतालिबा किया। उन्होंने कहा कि बी जे पी सदर फ़ी इलावा कई मुजरिम हैं या नहीं हमें ये देखना नहीं है बल्कि सबसे अहम मसला ये है कि अवामी ज़िंदगी में हमारी इमेज किस तरह की है।

उन्होंने कहा कि नितिन गडकरी को सबसे पहले बी जे पी सदारत के ओहदा मुस्ताफ़ी हो जाना चाहीए। दिलचस्प बात ये है कि यशवंत सिन्हा ने ये मुतालिबा नितिन गडकरी से तक़रीबन ढ़ेढ़ घंटा मुलाक़ात के बाद किया।

आज एल के अडवानी की रिहायश गाह पर पारलीमानी पार्टी की आमिला कमेटी के इजलास के मौक़ा पर ये मुलाक़ात हुई। बी जे पी ने शदीद रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए यशवंत सिन्हा के मुतालिबा को मुस्तर्द कर दिया और कहा कि उन्हें इस मुतालिबा पर नज़रसानी करनी चाहीए।

पार्टी ने कहा कि इस मसला पर तबादला-ए-ख़्याल के लिए पार्टी में कई फ़ोर्म मौजूद हैं। यशवंत सिन्हा के मुतालिबा से फिर एक मर्तबा नितिन गडकरी के ख़िलाफ़ मुहिम को एहमीयत हासिल हो गई है क्योंकि बी जे पी राज्य सभा रुकन राम जेठमलानी और उनके फ़र्ज़ंद महेश ने सबसे पहले करप्शन के इल्ज़ामात की बिना उन से इस्तीफ़ा का मुतालिबा किया था।

आर एस एस नज़रियात के हामिल गुरु मूर्ती की क्लीन चिट के बाद ऐसा लग रहा था कि ये मौज़ू थम जाएगा लेकिन यशवंत सिन्हा ने फिर इस मसला को सयासी हलक़ों में ताज़ा कर दिया है।

TOPPOPULARRECENT