Friday , November 24 2017
Home / Delhi News / निसाबी किताबों में विवेकानंद और बोस पर मवाद में तख़फ़ीफ़

निसाबी किताबों में विवेकानंद और बोस पर मवाद में तख़फ़ीफ़

नई दिल्ली: सीआईसी ने एनसीई आरटी की निसाबी किताबों में क़ौमी क़ाइदीन जैसे सुभाषचंद्र बोस और इन्क़िलाबीयों के बारे में मवाद निसाबी किताबों में कम कर देने पर एतराज़ करते हुए उसे हिदायत दी कि अगर ये फ़ैसला अज़खु़द किया गया है तो उसके पस-ए-पर्दा वजूहात का इन्किशाफ़ किया जाये।

सख़्त लब-ओ-लहजा वाले एक हुक्मनामे में कमीशन ने एनसीई आरटी से निसाबी किताबों में स्वामी विवेकानंद के बारे में12 वीं जमात की निसाबी किताबों में से 1250 अलफ़ाज़ से कम करने के उसे 37 अलफ़ाज़ का बना देने और 8वीं जमात की तारीख़ की किताबों में से इस को मुकम्मल हज़फ़ कर देने पर एतराज़ किया है।

ये माम‌ला इत्तेलाती कमिशनर श्रीधर आचार यलो के पास सूर्या प्रताप सिंह राजा वित्त मुक़ीम जयपुर की दरख़ास्त के ज़रिये पहुंचा। मकतूब रवाना करने वाले ने तारीख़ की निसाबी किताबों में मुमताज़ शख़्सियतों और इन्क़िलाबीयों की अदम शमूलियत पर एतराज़ किया था।

हक़ इत्तेलात क़ानून के तहत दरख़ास्तों और अवामी शिकायात की दरख़ास्तों के ज़रिये राजा वित्त ने कहा है कि36 क़ौमी क़ाइदीन और इन्क़िलाबीयों जैसे चन्द्र शेखर आज़ाद अशफ़ाक़ुल्लाह ख़ान बटुकेश्वर दत्त राम प्रसाद बिस्मिल और दीगर के नाम एनसीई आरटी की तारीख़ की किताबों से हिज़्ब कर दिए गए हैं।

इतमीनान बख़श जवाब ना मिलने पर उन्होंने शफ़्फ़ाफ़ियत कमेटी से रुजू किया है। सीआईसी पर समात के दौरान राजा वित्त ने बयान दिया कि क्रिकेट के लिए37 सफ़हात मुख़तस करना और पारचाजात की तारीख़ के लिए सफ़हात मुख़तस करना जिनका मुजाहिदीन आज़ादी की ज़िंदगीयों से कोई ताल्लुक़ नहीं है नामुनासिब है।

राजा वक़्त ने कहा कि एक जदूल जिस मनी अज़ीम अफ़राद की तस्वीरें हैं और नीचे तहरीर हैं ‘ अदम दस्तियाब’ यही तस्वीरें और जुमला एनसीई आरटी की निसाबी किताबों में शाय किया गया है। एनसीई आर टी की जानिब से सरकारी बयान में कहा गया है कि अपील कुंदा ने जो तजावीज़ पेश की हैं उन्हें निसाब पर नज़रेसानी करने वाली कमेटी को पेश किया जाएगा और कमेटी की सिफ़ारिशात पर अमलावरी की जाएगी। एनसीई आरटी की नुमाइंदगी करते हुए प्रोफ़ैसर नीरट रश्मि ने कहा कि आज़ादाना कमेटी अस्बाक़ और नसाबीकतब का करती है

TOPPOPULARRECENT