Wednesday , September 19 2018

नीतीश कुमार ने मुझे बेवकूफ़ समझ मुख्यमंत्री बनाया, बाद में साजिश रच कर मुझे हटा दिया- माझी

शुक्रवार को हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा सेकुलर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी एनडीए सरकार से अलग होने व बिहार में हुए उप चुनाव में महागठबंधन को मिली सफलता से उत्साहित दिखे।

आठ अप्रैल को पटना के गांधी मैदान में आयोजित पार्टी की रैली की सफलता को लेकर जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि जब हम गरीबों के अधिकार व उनके उत्थान की बात करते है तो मेरा मजाक बनाया जाता था।

उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा की आज देश की आजादी को सत्तर साल बीतने जा रहा है लेकिन लेकिन इन सालों में सिर्फ बीस प्रतिशत को छोड़ अस्सी प्रतिशत लोग आज भी गरीबी व बेरोजगारी के कारण दो जून की रोटी व सर को ढंकने के लिये सरकार से आस लगाये बैठे हैं।

उन्होंने कहा कि गरीबों के उत्थान के लिए सही मायने में आज तक किसी भी सरकार ने ईमानदारी पूर्वक प्रयास ही नहीं किया है। इसलिए समाज के हर गरीब तबकों के विकास पर हमारा जोड़ रहा है।

इस लिये वे आठ अप्रैल को पटना के गांधी मैदान में आयोजित गरीबों के अधिकार को लेकर अपने मुख्यमंत्री काल में जो भी निर्णय लिया था उसे लागू कराने के लिए सरकार पर दबाव बनाने का काम करेंगे।

जिला परिषद प्रांगण में पार्टी के जिला सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा की इतिहास गवाह है जब जब देश में राजनीतिक संकट ने पैदा लिया है तब तब पिछड़े वर्ग के लोगों को हथियार बना राजनीति में प्रयोग किया गया है।

उसी तरह नितीश कुमार पर जब लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार की वजह से संकटों का बादल मंडराने लगा तो उस समय मेरा चेहरा उसे नजर आया और बेवकूफ समझ मुझे मुख्यमंत्री बना दिया।

उन्होंने कहा कि लेकिन जब हमने गरीबों व आम लोगों के हित में अच्छा काम करना शुरू किया तो अपनी राजनीतिक वजूद को बचाये रखने के लिए एक साजिश रच मुझे मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया।

TOPPOPULARRECENT