Thursday , December 14 2017

नीतीश के दहेज प्रथा के खिलाफ़ अभियान से प्रभावित होकर प्रकाश साह ने बिना दहेज की शादी

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ़ एक मुहिम चलाया है। शराबबंदी लागू करने के बाद इसी साल 2 अक्टूबर को समाज के दो और विसंगतियां, बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ राज्यव्यापी अभियान की शुरुआत की।

नीतीश कुमार का मानना था कि शराब बंदी की तरह बाल विवाह और दहेज प्रथा भी समाज में फैली ऐसी बुराइयां हैं, जिसे दूर किया जाना चाहिए। अब नीतीश कुमार की इस नई मुहिम का नतीजा भी महीने भर के अंदर देखने को मिल रहा है।

पिछले दिनों भोजपुर जिले में प्रकाश साह नाम के युवक और पूजा कुमारी की शादी संपन्न हुई। प्रकाश भोजपुर के चतुर्भुजी बरांव गांव के निवासी है और पूजा सीकरहटा गांव की रहने वाली।

दोनों की पिछले दिनों शादी हुई और खास बात यह रही कि यह शादी एक आदर्श विवाह बन गई। क्योंकि इस विवाह में ना तो पैसे का लेनदेन हुआ, ना ही कोई दहेज का आदान-प्रदान।

प्रकाश के पिता का कहना था कि जिस प्रकार से नीतीश ने दहेज प्रथा के खिलाफ बिहार में अभियान की शुरुआत की है, उससे वह काफी प्रभावित हुए थे और इससे प्रभावित होकर उन्होंने फैसला किया कि वह अपने बेटे की शादी बिना दहेज लिए ही करेंगे।

बिना दहेज के संपन्न यह आदर्श विवाह उस वक्त चर्चा में आ गया, जब खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शादीशुदा जोड़े को पटना बुलाकर उनसे अपने आवास पर मुलाकात की।

TOPPOPULARRECENT