Sunday , December 17 2017

नीतीश के हलफबरदारी में जाएंगे वजीरे आजम नरेंद्र मोदी

पटना : वजीरे आजम नरेंद्र मोदी बिहार के वजीरे आला नीतीश कुमार के हलफबरदारी तकरीब में शामिल होंगे। यह जानकारी शहरी तरक्की वुजरा के रियासती वज़ीर बाबुल सुप्रियो ने होटल ताज गेटवे में काशी-क्योटो मूआहिदे के तहत मुनक्कीद वर्कशॉप के बाद हुई बातचीत में दी।

उन्होंने कहा कि इंतिख़ाब की लड़ाई इंतिख़ाब तक महदूद रहनी चाहिए। इसके बाद तरक़्क़ी में सियासत का रुकावट नहीं बननी चाहिए। मरकज़ी हुकूमत इसी बुनियाद पर काम कर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि बिहार की नई हुकूमत को तरक्की में मरकज़ हुकूमत का पूरा मदद मिलेगा।
बाबुल ने कहा कि मरकज़ी हुकूमत और शहरी तरक्की वुजरा की पूरी कोशिश है कि परपोजल कामों को वक़्त पर पूरा किया जा सके। इसके लिए हम 24 घंटे काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 1947 के बाद से अवाम के सामने बहुत वादे किए गए, पॉलिसियाँ बनाई गईं लेकिन उन्हें लागू नहीं किया जा सका। हम भी मानते है कि सबकुछ एक दिन में नहीं बदला जा सकता लेकिन हम पॉलिसियों को असर बनाने का पूरा कोशिश कर रहे हैं। मरकज़ी वज़ीर ने कहा कि हम ऐसा बदलाव करेंगे जो दिखाई देगा। सिर्फ सोचेंगे नहीं उसकी असली तस्वीर जमीन पर दिखाएंगे।

लालू यादव के लालटेन लेकर पीएम के पार्लियामानी हल्के बनारस में तरक्की काम देखने की ऐलान को बाबुल सुप्रियो ने सियासत माना है। उन्होंने कहा कि लालू तरक्की देखने नहीं मुखालिफत करने आ रहे हैं। वाजह है कि उन्हें यहां कोई अच्छी चीज नहीं दिखेगी।

बाबुल बोले, काश, आज यहां शहर तरक्की वज़ीर आजम खां दिखाई देते। अक्सर टीवी पर बोलते सुना है, आज देख भी लेता। वो होते तो काशी और रियासत के कई दीगर मुद्दों पर भी बातचीत होती। उन्होंने कहा कि तरक्की कामों में रियासती हुकूमत का मुनासिब मदद नहीं मिल रहा है, इससे काम मुतासीर होंगे ही। उन्होंने कहा कि यहां इतना बड़ा प्रोग्राम चल रहा है लेकिन रियासती हुकूमत का एक भी नुमाइंदा मौजूद नहीं है।

 

TOPPOPULARRECENT