Thursday , December 14 2017

नीतीश निश्चय : 5 वर्षों के अंदर एक करोड़ युवाओं को कौशल विकास की मिलेगी ट्रेनिंग

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार विधान सभा चुनाव के समय अपने घोषणा पत्र में सात निश्चयों को आगामी पांच वर्षों में पूरा करने का वादा किया था. बुधवार को सात निश्चयों में से एक, कुशल युवा के तहत ‘भरती, प्रशिक्षण व तैनाती (रिक्रूमेंट, ट्रेनिंग एंड डिप्लॉय-आरटीडी)’ योजना का शुभारंभ किया. इस मौके पर 15 कंपनियों के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किये गये और कंपनियों ने 40 युवकों को नियुक्तिपत्र भी दिया.

श्रम संसाधन विभाग की इस योजना को लांच करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 नवंबर से युवाओं की ट्रेनिंग शुरू हो जायेगी. पांच सालों में एक करोड़ युवाओं को मिशन मोड में प्रशिक्षित किया जायेगा. इन युवाओं को संबंधित कंपनियां प्रशिक्षण देंगी और उसमें खरे उतरे, तो उसी कंपनी में उन्हें रोजगार मिलेगा. . आज के युग में ज्ञान व कौशल के बिना कुछ नहीं कर सकते हैं. स्किल डेवलपमेंट में ठीक से युवा रुचि लेंगे, तो वे किसी भी ऊंचाई पर जा सकते हैं.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रभात खबर के अनुसार, बिहार सरकार ने 15 विभागों का चयन किया है और अपनी क्षमता के आधार पर लक्ष्य निर्धारित किया है. युवाओं को 74 प्रकार के कोर्स में प्रशिक्षण दिया जायेगा. जो युवा स्किल्ड होंगे, उन्हें रोजगार के अच्छे अवसर मिलेंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी सरकार इतने युवाओं को सीधे नौकरी नहीं दे सकती है. सरकार की अपनी एक सीमा होती है. सरकारी से कई गुना ज्यादा निजी क्षेत्र में रोजगार के अवसर हैं और यह तभी मिलेगा जब युवा स्किल्ड होंगे. जितना स्किल बेहतर होगा, रोजगार के अवसर उतने बढ़ेंगे.

उनहोंने आगे कहा कि सरकार सात निश्चय एक-एक कर लागू कर रही है. युवाओं को आगे पढ़ने के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड और रोजगार तलाशने के लिए स्वयं सहायता भत्ता योजना दो अक्तूबर से शुरू की गयी है. अब तक एक लाख से ज्यादा आवेदन आ चुके हैं. सभी की प्रोसेसिंग की जा रही है और सबको लाभ दिलाया जायेगा. स्वयं सहायता भत्ता के लिए युवाओं को प्रशिक्षण लेना आवश्यक होगा. युवाओं को कंप्यूटर ज्ञान, हिंदी-अंगरेजी बोलने का संवाद कौशल और व्यवहार कौशल की ट्रेनिंग दी जायेगी.

इसके लिए हर प्रखंड में केंद्र खोले जा रहे हैं. निजी क्षेत्र में भी सेंटर खोलने की अनुमति दी गयी है. 1000 से ज्यादा सेंटर चलेंगे. इनमें कंप्यूटर, संवाद कौशल और व्यवहार कौशल की ट्रेनिंग दी जायेगी. निजी कंपनियां भी युवाओं को लेकर ट्रेनिंग देंगी. अगर युवा उसमें पास कर गये, तो उसी कंपनी में उन्हें रोजगार मिल जायेगा. स्किल ट्रेनिंग में सफलता जरूरी है. असफल होंगे, तो कंपनी नहीं लेगी. सफल हुए, तो ट्रेनिंग में खर्च हुई राशि राज्य सरकार वहन करेगी.

उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि युवाओं को रोजगार देने का जो सपना था, वह पूरा होने जा रहा है. ट्रेनिंग के बाद बिहार के युवाओं को शत-प्रतिशत रोजगार मिलेगा. उन्होंने कंपनियों से आग्रह किया कि वे सिर्फ अपना फायदा नहीं देखें. सामाजिक क्षेत्र में भी युवाओं के लिए काम करे. इससे युवाओं की आर्थिक स्थिति बेहतर हो सकेगी. बिहार का जो परसेप्शन बना हुआ था, वह काफी हद तक बदला है. बिहार ऊंचाइयों पर जायेगा.

नीतीश कुमार ने कहा कि. यह कालचक्र है. बिहार पहले ऊपर था एक दौर ऐसा आया, जिसमें बिहार पिछड़ गया, फिर ऊपर ले जायेंगे. बिहार के युवाओं की बदौलत फिर से उस शीर्ष को प्राप्त करेंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को सिर्फ सर्टिफिकेट न मिले, उनका स्किल का विकास हो.

TOPPOPULARRECENT