Saturday , June 23 2018

नीतीश-लालू-कांग्रेस इत्तिहाद भाजपा के खिलाफ दवा का काम करेगा : नीतीश

राजद सरबराह लालू प्रसाद के साथ हाथ मिलाने की हिमायत करते हुए जदयू के सीनियर लीडर नीतीश कुमार ने आज कहा कि सेकुलर पार्टियों का यह इत्तिहाद भाजपा के फिरका वराना जहर के खिलाफ दवा के तौर में काम करेगा। बिहार एसेम्बली की दस सीटों में र

राजद सरबराह लालू प्रसाद के साथ हाथ मिलाने की हिमायत करते हुए जदयू के सीनियर लीडर नीतीश कुमार ने आज कहा कि सेकुलर पार्टियों का यह इत्तिहाद भाजपा के फिरका वराना जहर के खिलाफ दवा के तौर में काम करेगा। बिहार एसेम्बली की दस सीटों में राजनगर एसेम्बली सीट से राजद उम्मीदवार रामावतार पासवान के हक़ में इंतिखाबी इजलास को खिताब करते हुए नीतीश ने आज कहा कि जदयू-राजद-कांग्रेस का इत्तिहाद मुल्क में भाजपा के ‘जहर’ को डिफ़ुज करेगा।

20 साल पुरानी अपनी सियासी दुश्मन को भुलाते हुए लालू प्रसाद के साथ कल हाजीपुर के जमालपुर गांव में पहली बार प्लेटफोरम साझा करते हुए नीतीश ने कहा कि यह वोट की तक़सीम को रोकने के लिए किया गया, जो हाल में लोकसभा इंतिख़ाब में भाजपा से हार की वजह रहा।

उन्‍होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ सेकुलर ताकतों की बिहार से इत्तिहाद के इस नये फोर्मूले की शुरुआत हुई है और इसका तशहीर मुल्क के दीगर इलाकों में भी होगा। गुजरात के मौजूदा वजीरे आला नरेंद्र मोदी की सेकुलरिज्म पर सवाल खडा करने वाली जदयू ने मोदी को भाजपा की इंतिख़ाब कमेटी का चीफ़ बनाए जाने पर नीतीश मोदी पर वार करते हुए उन पर और उनकी पार्टी पर ‘अफवाह’ फैलाने का ‘मास्टर’ होने का इल्ज़ाम लगाया।

नीतीश ने कहा कि हाल ही में नेपाल में ज़मीन खिसकने से बिहार के कोसी इलाक़े में अचानक सैलाब आने के खतरे को रोकने के बिहार हुकूमत ने कडी मेहनत की और यह पता चला कि उससे कोई बडा खतरा नहीं है। तब नरेंद्र मोदी की तस्वीर चमकाने के लिए उनके बारे में यह तशहीर किया गया कि अपनी नेपाल सफर के दौरान उनके कोशिश का नतीजा है कि नेपाल हुकूमत ने यकायक नहीं थोडा-थोडा पानी छोडा।

नीतीश ने मरकज़ी हुकूमत पर वार करते हुए कहा कि बढती मंहगाई और बदउनवान ने यह साबित आकर दिया है कि अच्छे दिन आने वाले नहीं हैं और लुभावने वादे महज़ वोट हासिल करने के लिए किए गए थे।

उन्‍होंने इल्ज़ाम लगाया कि नरेंद्र मोदी के इक्तिदार में आने से करीब चार लाख रुपये की नौकरी का ख्वाब दिखाकर सोशल मीडिया के जरिए नौजवानों की आंखों में धूल झोंका गया। बाहर के चालाक लोग बिहार के गांवों और छोटे शहरों में जाकर इस ख्वाब को बेचा और वोटिंग खत्म होते ही वे गायब हो गए।

TOPPOPULARRECENT