Saturday , December 16 2017

नीतीश-लालू मुस्लिम चेहरे नहीं चाहते : तारिक अनवर

पटना : बिहार एसेम्बली इंतिख़ाब के लिए हुए सीटों के बंटवारे में तीन सीटें दिए जाने से नाराज राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी राकांपा: के सीनियर लीडर तारिक अनवर ने लालू प्रसाद, नीतीश कुमार और कांग्रेस के ‘सेकुलर अज़ीम इत्तिहाद’ पर निशाना साधते हुए आज कहा कि ये लोग मुस्लिम चेहरे नहीं चाहते और उन्होंने हमेशा अपनी पार्टियों में मुस्लिम लीडरों को दबाने का काम किया क्योंकि वे मुस्लिम वोट को पक्का मानकर चलते हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राकांपा अपने मुक़ामी लीडरो और कारकुनान से गौर व खौश कर रही है और 18 अगस्त के बाद कोई फैसला करेगी।

अनवर ने जदयू-राजद-कांग्रेस के ‘सेकुलर इत्तिहाद ’ पर सीधा हमला बोलते हुए कहा, ‘‘ये लोग मुस्लिम चेहरा चाहते ही नहीं है। अपनी पार्टी में इन लोगों ने मुस्लिम चेहरों को आगे बढने ही नहीं दिया। उनको दबाकर रखा। उनका इस्तेमाल किया, लेकिन हुकूमत में हिस्सेदारी नहीं दी। इनको लगता है कि भाजपा की वजह से मुस्लिम वोट तो हमें जरुर मिलेगा। ये मुस्लिम वोट को पक्का मानकर चलते हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘इनको मुस्लिम चेहरा नहीं चाहिए, इनको दलित चेहरा नहीं चाहिए। यह इन लोगों की सोच है। यह सोच बिल्कुल गलत है। ’’

लोकसभा में राकांपा एमपी दल के लीडर ने कहा, ‘‘इन्होंने हमें जो परपोजल तीन सीटों का दिया है उसे कुबूल करने का सवाल ही नहीं उठता। 18 अगस्त तक हम पार्टी के अंदर गौर व खौस कर रहे हैं और इसके बाद कोई फैसला किया जाएगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘सीटों के बंटवारे का फैसला एकतरफा है , हमसे इस बारे में बातचीत नहीं की गई। पहले कहा गया था कि बातचीत होगी और फिर सीटों के बंटवारे पर फैसला होगा। लेकिन इन लोगों ने आपस में बैठकर तय कर लिया और हमें दरकिनार कर दिया। ’’ गुजिशता दिनों जदयू, राजद और कांग्रेस ने एसेम्बी इंतिख़ाब के लिए सीटों का फैसला किया। इसके तहत जदयू और राजद 100-100 सीटों और कांग्रेस 40 सीटों पर इंतिखाब लडेगी। राकांपा को तीन सीटें दी गईं।

अनवर ने कहा, ‘‘लोकसभा इंतिख़ाब में राजद और कांग्रेस के साथ हमारा इत्तिहाद था। हमें एक सीट दी गई और हमने वो जीती, जबकि राजद ने 27 में से चार और कांग्रेस ने 12 में से दो लोकसभा सीटें जीती थीं। ऐसे में हम इस इत्तिहाद में कम से कम 12 एसेम्बली सीटों की उम्मीद कर रहे थे। ’’ उन्होंने कहा कि राजद से निकाले गए एमपी पप्पू यादव ने उनसे इंतिख़ाब में समझौते को लेकर राब्ता किया है, लेकिन अभी इस बारे में उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है।

TOPPOPULARRECENT