Friday , December 15 2017

नेपाल : जहाज का हादिसा (दुर्घटना ),15 महलूकीन में 13 हिंदूस्तानी

13 हिंदूस्तानी यात्री उन 15 अफ़राद में शामिल हैं जो आज शुमाली (उत्तरी ) नेपाल में एक छोटे ख़ानगी जहाज के हादिसा (दुर्घटना ) में हलाक हो गए जबकि ये जहाज इंतिहाई बुलंदी पर वाक़ै जूम सोम एयरपोर्ट पर लैंड करने की कोशिश में पहाड़ी चोटी से ट

13 हिंदूस्तानी यात्री उन 15 अफ़राद में शामिल हैं जो आज शुमाली (उत्तरी ) नेपाल में एक छोटे ख़ानगी जहाज के हादिसा (दुर्घटना ) में हलाक हो गए जबकि ये जहाज इंतिहाई बुलंदी पर वाक़ै जूम सोम एयरपोर्ट पर लैंड करने की कोशिश में पहाड़ी चोटी से टकरा गया। तिरी भवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट की रेस्क्यू को आर्डिनेशन कमेटी के ओहदेदार ने कहा कि अग्नी एयर से ताल्लुक़ रखने वाले डार नीयर जहाज ने तफ़रीही मुक़ाम पोखरा से उड़ान भरी थी और जूम सोम की राह पर था कि हादिसा (दुर्घटना ) का शिकार हो गया जबकि इस ने पहाड़ी फ़िज़ाई पट्टी पर लैंडिंग की कोशिश की। उन्हों ने कहा कि तकनीकी ख़ामी के इमकानात भी हो सकते हैं। उन्हों ने बताया कि इस हादिसा (दुर्घटना ) में हलाकहोने वालों में 13 हिंदूस्तानी शहरी और दो नेपाली अरकान अमला शामिल हैं।

बचाओ कारकुनों ने अभी तक मलबा से 9 नाशें बरामद कर ली हैं । ओहदेदार ने कहा कि जहाज में सवार 6 अफ़राद बिशमोल 3 हिंदूस्तानी, एक एयर होस्टेस और दो डेनमार्क के शहरी हादिसा (दुर्घटना ) के मुक़ाम से ज़िंदा बचा लिए गए हैं। जख्मी अफ़राद पोखरा के दवाख़ाना से रुजू कर दिए गए और हादिसा (दुर्घटना ) में बच जाने वाले तीन हिंदूस्तानी ख़तरा से बाहर है। इस जहाज में मजमूई तौर पर 21 अफ़राद सवार थे जिस में 16 हिंदूस्तानी, 2 डेनमार्क के शहरी और 3 नेपाली अरकान अमला शामिल थे। नेपाली ओहदेदार ने कहा कि इन मोसाफ़रीन(यात्रीयों) ने वस्ती सयाहती मर्कज़ पोखरा से तिब्बती सरहद के करीब जूम सोम में वाक़ै मशहूर हिन्दू या तराई मुक़ाम मुक्ती नाथ को जाने के लिए ये फ़लाएट पकड़ी थी।

दरें असना दो कम उमर हिंदूस्तानी लड़कियां ख़ुशकिसमत रहें और उन्हें इस हादिसा (दुर्घटना ) में जानी नुक़्सान नहीं हुआ। हिंदूस्तानी सिफ़ारतख़ाना (दुतावास) की तर्जुमान अपूर्वा श्री वास्तव ने न्यूज़ चैनलों को बताया कि 6 साला और 9 साला दोनों लड़कियां बेहोश हैं लेकिन ख़तरा से बाहर हैं। उन्हों ने कहा कि तीसरा बच जाने वाला फ़र्द 45 साला शख़्स है। ये वाज़िह नहीं हुआ आया दोनों लड़कियों के वालदैन भी बच गए हैं।अपूर्वा ने यक़ीन दिलाया कि बचाओ ऑपरेशंस भरपूर रफ़्तार में जारी हैं और नेपाल आर्मी पर्सनल भी हादिसा (दुर्घटना ) के मुक़ाम के लिए निकल पड़े हैं। हादिसा (दुर्घटना ) के बाद जहाज पाश पाश होगया और इस का मलबा दूर दूर तक बिखर गया।

TOPPOPULARRECENT