Tuesday , January 16 2018

नेशनल कान्फ़्रेंस एन डी ए में शामिल नहीं होगी : मुस्तफ़ा कमाल

नेशनल कान्फ़्रेंस क़ाइद शेख़ मुस्तफ़ा कमाल जो कि सदर पार्टी फ़ारूक़ अबदुल्लाह के छोटे भाई हैं, ने इन क़ियास आराईयों को रद‌ कर दिया कि मर्कज़ में अपोज़ीशन इत्तिहाद के बरसर-ए-इक़तिदार आने पर नेशनल कान्फ़्रेंस एन डी ए में शामिल होगी।

नेशनल कान्फ़्रेंस क़ाइद शेख़ मुस्तफ़ा कमाल जो कि सदर पार्टी फ़ारूक़ अबदुल्लाह के छोटे भाई हैं, ने इन क़ियास आराईयों को रद‌ कर दिया कि मर्कज़ में अपोज़ीशन इत्तिहाद के बरसर-ए-इक़तिदार आने पर नेशनल कान्फ़्रेंस एन डी ए में शामिल होगी।

उन्होंने ये वाज़िह कर दिया कि मुस्तक़बिल में पार्टी का किसी भी इत्तिहाद में शामिल होने का फ़ैसला पार्टी हाईकमान करेगी। अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि ये एक मफ़रूज़ा के तौर पर पूछा जाने वाला सवाल है लेकिन ज़मीनी हक़ीक़त ये है कि हम बी जे पी की ताईद हरगिज़ नहीं करसकते क्योंकि इस पार्टी के वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी गुजरात में मुसलमानों के क़त्ल-ए-आम में मुलव्वस हैं।

याद रहे कि मुस्तफ़ा कमाल को इस बयान के ज़रिया ये वज़ाहत इस लिए करनी पड़ी क्योंकि मुक़ामी अख़बारात में ये ख़बरें शाय हुई थीं जहां मुस्तफ़ा कमाल के हवाले से कहा गया था कि अगर बी जे पी मर्कज़ में बरसर-ए-इक़तिदार आई तो नेशनल कान्फ़्रेंस बी जे पी की ताईद करेगी।

कमाल ने एक बार फिर वज़ाहत करते हुए कहा कि पार्टी ने मुस्तक़बिल के तमाम सियासी इत्तिहादों का फ़ैसला फ़ारूक़ अबदुल्लाह पर छोड़ दिया है। पार्टी ने जब हर फ़ैसले केलिए पार्टी सदर को इख़्तयारात दिए हैं तो भला में इस बारे में क्या कह सकता हूँ। यहां तक कि वज़ीर-ए-आला उमर‌ अबदुल्लाह ने भी ये बात कही है। मुस्तफ़ा कमाल ने बी जे पी और मोदी को फ़िर्कावाराना तक़सीम का ज़िम्मेदार क़रार देते हुए कहा कि मोदी की इंतिख़ाबी मुहिम का आग़ाज़ यू पी में फ़िर्कावाराना फ़सादात‌ से हुआ।

उन्होंने कहा कि कि मर्कज़ में सिर्फ़ एक सेकूलर इत्तिहाद (जैसे कि यू पी ए जिस का हम एक हिस्सा हैं) ही कामयाब हुकूमत फ़राहम करसकता है। उन्होंने कहा कि ये एक अलग बात हैकि यू पी ए के साथ भी उन में कुछ इख़तिलाफ़ात हैं ख़ुसूसी तौर पर कांग्रेस के साथ लेकिन उन इख़तिलाफ़ात को भी मख़लूत हुकूमत में शामिल दीगर हलीफ़ जमातों के साथ बातचीत के ज़रिया ख़त्म किया जा सकता है।

TOPPOPULARRECENT