Thursday , April 26 2018

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड के मुताबिक यूपी में हर दिन गायब हो रहे औसतन आठ बच्चे

लखनऊ। यूपी में हर रोज औसतन आठ बच्चे लापता हो रहे हैं। इनमें से तीन कभी नहीं मिलते। वहीं जितने लापता बच्चे बरामद हो रहे हैं, उनमें से 33.5 प्रतिशत लड़कियां हैं। लड़कों में घर वापसी का प्रतिशत 38.4 है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो 2016 के इन आंकड़ों से संकेत मिलता है कि प्रदेश के लापता बच्चों का इस्तेमाल तस्करी में हो रहा है।

ये सभी बच्चे 18 से कम उम्र के हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक यूपी में एक वर्ष में 2903 बच्चे लापता हुए। वहीं पूर्व में लापता बच्चों की संख्या के साथ यह आंकड़ा 5169 पहुंच जाता है। सबसे बड़ी समस्या इनकी रिकवरी की है। जो बच्चे पाए गए हैं, उससे अधिक बच्चे लापता रह गए।

2015 में जहां 2266 बच्चे लापता रह गए थे, 2016 में यह संख्या बढ़कर 3308 पहुंच गई। वहीं इनमें लड़के और लड़कियों की संख्या क्रमश: 1625 और 1683 थी। दूसरी ओर लड़के और लड़कियों में लापता होने पर मिलने का अंतर बना हुआ है।

इसकी एक वजह सामाजिक कारण भी बताए जा रहे हैं। कई बार परिवार अपनी बेटियों को अपनाने से इन्कार कर देते हैं। इसकी प्रमुख वजह उनका देह व्यापार से शामिल होना है।

सौजन्य- अमर उजाला

TOPPOPULARRECENT