Thursday , September 20 2018

नॉर्थ ईस्ट को लेकर दिए गए बयान पर ओवैसी ने जताई आपत्ति, कहा राजनीति से दूर रहें आर्मी चीफ

नयी दिल्ली : आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत के नॉर्थ ईस्ट को लेकर दिए गए बयान पर सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कड़ी आपत्ति जताई है. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेदादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बिपिन रावत के बयान पर कहा है कि आर्मी चीफ को राजनीतिक मामलों में दखल नहीं देना चाहिए. उनका काम किसी राजनीतिक पार्टी के उदय पर कमेंट करना नहीं है. बता दें कि चीन और पाकिस्तान के को लेकर आर्मी चीफ ने चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि पड़ोसी मुल्क भारत की मजबूती को हिलाने में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं इसलिए उन्होंने प्रॉक्सी वॉर का रास्ता चुना है. आर्मी चीफ ने नॉर्थ-ईस्ट के रास्ते भारत आने वाले शरणार्थियों को चीन की चाल बताया था. रावत ने कहा कि चीन की मिलीभगत से पाकिस्तान इस रास्ते अपने आतंकियों को भारत भेज रहा है. इसी दौरान आर्मी चीफ ने एक राजनीतिक संगठन का जिक्र कर दिया, जिस पर विवाद गरमा गया.

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने पड़ोसी मुल्कों पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस तरह कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए आतंकवादी भेजे जाते हैं. उसी तरह नॉर्थ-ईस्ट में अशांति फैलाने के लिए अवैध आबादी को भारत में भेजा जाता है.आर्मी चीफ ने इसके पीछे वोट बैंक की राजनीति को दोषी बताया. उन्होंने कहा, ‘नॉर्थ ईस्ट में AIUDF नाम का राजनीतिक संगठन बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है. यह पार्टी बीजेपी से भी काफी तेज आगे बढ़ रही है. जनसंघ का आज तक का जो सफर रहा है उसके मुकाबले एआईयूडीएफ का विकास तेजी से हुआ है.’

बता दें कि AIUDF (ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट) नाम का संगठन मुस्लिमों की आवाज बुलंद करने के लिए काम करता है. ओवैसी ने कहा- राजनीति से दूर रहें आर्मी चीफ असम की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को लेकर आर्मी चीफ के बयान पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आपत्ति जताई है. ओवैसी ने कहा है कि आर्मी चीफ को राजनीति से दूर रहना चाहिए. सोशल मीडिया पर ओवैसी ने आर्मी चीफ के बयान को शेयर करते हुए लिखा, ‘आर्मी चीफ को राजनीति में दखल नहीं देना चाहिए. उनका काम किसी राजनीतिक पार्टी के आगे बढ़ने पर कमेंट करना नहीं है. लोकतंत्र और संविधान इस बात की इजाजत देता है कि सेना हमेशा एक निर्वाचित नेतृत्व के तहत काम करेगी.’

(क्विंट और बिटगिविंग ने मिलकर 8 महीने की रेप पीड़ित बच्ची के लिए एक क्राउडफंडिंग कैंपेन लॉन्च किया है. 28 जनवरी 2018 को बच्ची का रेप किया गया था. उसे हमने छुटकी नाम दिया है. जब घर में कोई नहीं था,तब 28 साल के चचेरे भाई ने ही छुटकी के साथ रेप किया. तीन सर्जरी के बाद छुटकी को एम्स से छुट्टी मिल गई है लेकिन उसे अभी और इलाज की जरूरत है ताकि वो पूरी तरह ठीक हो सके.छुटकी के माता-पिता की आमदनी काफी कम है, साथ ही उन्होंने काम पर जाना भी फिलहाल छोड़ रखा है ताकि उसकी देखभाल कर सकें. आप छुटकी के इलाज के खर्च और उसका आने वाला कल संवारने में मदद कर सकते हैं. आपकी छोटी मदद भी बड़ी समझिए. डोनेशन के लिए यहां क्लिक करें.)

TOPPOPULARRECENT