Tuesday , November 21 2017
Home / Khaas Khabar / नोटबंदी: अपने ही सांसदों से डर रही है भाजपा

नोटबंदी: अपने ही सांसदों से डर रही है भाजपा

स्क्रॉल की खबर के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने, नोटबंदी के फैसले पर पार्टी के भीतर उठ रहे विरोध के स्वरों को ध्यान में रखते हुए गुपचुप तरीके से पार्टी के सांसदों की दो बैठकों को रद्द कर दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी के कई सांसद 500 और 1000 रूपये के नोट को प्रचालन से बाहर किये जाने के फैसले से नाराज़ हैं।

सांसदों की पहली मीटिंग संसद के शीत सत्र के शुरू होने से पहले बुधवार को तय थी जबकि दूसरी मीटिंग शुक्रवार को लोकसभा स्थगित होने से पहले होना तय थी।

हालाँकि भाजपा नेतृत्व ने मीटिंग रद्द करने की वजह के बारे में नहीं बताया। लेकिन पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के मुताबिक मीटिंग में अपनी ही पार्टी के सांसदों का नोटबंदी पर विरोध झेलना सरकार को शर्मिंदा कर सकता था इसलिए बैठक रद्द कर दी गयी।

लोकसभा में भाजपा के एक सांसद ने पहचान गुप्त रखने के आश्वासन पर बताया कि शुक्रवार की मीटिंग कई दिन पहले तय की गयी थी। इसका उद्देश नोटबंदी के मुद्दे पर सांसदों की ट्रेनिंग था। “हमें सूचना दी गयी थी कि बैठक में सांसदों को पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन के ज़रिये 1000 और 500 के नोट बंद करने का उद्देश्य और इसके फायदों से अवगत कराया जायेगा, ” उन्होंने कहा।

हालाँकि मीटिंग से कुछ घंटे पहले ही इसको रद्द कर दिया गया। “मुझे बताया गया है कि इस मीटिंग को अब अगले हफ्ते के किसी दिन किया जायेगा, ” एक दुसरे भाजपा सांसद ने बताया।

इसी तरह 16 नवम्बर पार्टी के सांसदों को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बुलाया था लेकिन वह मीटिंग भी रद्द कर दी गयी। “उस दिन दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू होने से पहले हमें बताया गया था कि दोनों सदनों में विपक्ष के विरोध से निबटने के लिए रणनीति पर चर्चा की जाएगी। लेकिन शाम में चार बजे बताया गया कि मीटिंग रद्द हो गयी है, ” पार्टी के एक सांसद ने बताया।

TOPPOPULARRECENT