Saturday , December 16 2017

नोटबंदी के कारण नहीं बिक रहा टमाटर, सड़क पर फेंकने को मजबूर हुए किसान|

किसानों ने कई टन टमाटर छत्तीसगढ़ के ज़िले जशपुर में सड़क पर फेंका और साथ में पूरा ट्रैफिक भी जाम किया.

छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले के पत्थलगांव मे बुधवार को सौ से अधिक गुस्से से भरे किसानों ने कई टन टमाटर सड़क पर फेंक कर ट्रैफिक जाम करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। किसानों का कहना है कि फसल की सही कीमत नहीं मिलने के कारण टमाटर फेंकने का निर्णय लिया गया। स्थानीय व्यापारी मिली भगत कर के पचास पैसे प्रति किलो में भी टमाटर नहीं खरीद कर उनका शोषण कर रहे है।

जशपुर जिले की जिला अधिकारी प्रियंका शुक्ला ने इन आरोपों से इंकार किया कि नोटबंदी के कारण टमाटर नहीं बिक पाने से किसानों ने टमाटर सडकों पर फेंका है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष टमाटर का उत्पादन ज्यादा होने के कारण स्थानीय बाजार में कीमत और मांग कम हुई है। जिला प्रशासन पड़ोसी राज्य ओडिशा के बरगढ़ जिले के बाजार में टमाटर बिक्री की नयी संभावनाओं की जानकारी ले रहा है।

शुक्ला ने स्थानीय निकायों को निर्देश दिया है कि वे फिलहाल टमाटर किसानों से स्थानीय कर और शुल्क न लें। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के समझाने के बाद किसानों ने ट्रैफिक जाम खत्म कर दिया है। जशपुर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पवन अग्रवाल ने आज राष्ट्रपति को निवेदन पत्र भेजकर छत्तीसगढ़ में धान की तरह टमाटर का समर्थन मूल्य घोषित करने और राज्य शासन द्वारा टमाटर खरीदने की मांग की है।

TOPPOPULARRECENT