Thursday , November 23 2017
Home / Khaas Khabar / नोटबंदी के चलते 9 दिन में मरने वालों की संख्या 55 पहुंची

नोटबंदी के चलते 9 दिन में मरने वालों की संख्या 55 पहुंची

तस्वीर- कैच न्यूज

नोटबंदी का आज दसवां दिन है। पिछले नौ दिनों में हफ्फिंगटन पोस्ट के मुताबिक 55 लोगों की मौत हो चुकी है। ये आकड़े राष्ट्रीय और क्षेत्रिय मीडिया रिपोर्टों के आधार पर दिए गए हैं। पर ये इससे भी अधिक हो सकते हैं। इस आकड़े में अधिकांश मृत्यु लंबे बैंक कतारों में प्रतीक्षा कर रहे बुजुर्गों की है। वहीं दूसरी तरफ आत्महत्या करने के मामले में अधिक संख्या गृहिणियों की है।

  1. दिल्ली में वीरेंद्र बिसोया नाम के एक 25 वर्षीय व्यापारी ने छत के पंखे के लटककर खुद को फांसी लगा लिया। उनकी पत्नी ने कहा कि वो 12 लाख के अपने पुराने नोटों को बदलने को लेकर परेशाम थे। उन्हें किसी को भुगतान करने पैसा चाहिए था। (इंडियन एक्सप्रेस)
  2. आंध्र प्रदेश के चित्तूर के रहने वाले 70 वर्षीय रत्न पिल्लई एक बैंक कतार में इंतजार कर रहे थे तभी उनको दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई। काफी लंबे समय से कतार लगे थे। उन्होंने बैंक मैनेजर से भी संपर्क किया पर बात नहीं बनी। अचानक के दिल का दौरा पड़ा। उसके बाद वो गिरे और मौत हो गई। (हिन्दू)
  3. उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के रहने वाले 70 वर्षीय इश्तेयाक अहमद की मौत बैंक कतार लगने के दौरान हो गई (टाइम्स ऑफ इंडिया)
  4. राजस्थान के सीकर जिले में एक 62 वर्षीय चाय बेचने वाले जगदीश पंवार की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गया। वो अपनी बेटी की शादी के लिए नकदी को लेकर परेशान थे। सीकर प्रशासन का कहना है कि स्थानीय बैंकों को दो दिनों से भारतीय रिजर्व बैंक से नकदी नहीं मिला है, जिसकी वजह से स्थानीय बैंकों में पैसा नहीं आया। (इंडियन एक्सप्रेस)
  5. राजस्थान के सीकर जिले के चाय बेचने वाले 62 वर्षीय जगदीश पंवार का निधन दिल का दौरा पड़ने से गया। वह अपनी बेटी की शादी के लिए नकदी नहीं होने के चलते परेशान थे। स्थानीय बैंकों में दो दिन से जा रहे थे मगर भारतीय रिजर्व बैंक से नकदी नहीं मिलने के चलते उनको पैसा नहीं मिल पा रहा था। (इंडियन एक्सप्रेस)
  6. तेलंगाना के निजामाबाद जिले एक ऑटो-ड्राइवर शेख़ बसीर ने आत्महत्या कर ली। बसीर को अपने फाइनेंसर को कर्ज चुकाना था। फाइनेंसर ने पुराने नोट लेने से मना कर दिया था, जिसके चलते उन्होंने आत्महत्या कर लिया। वे 35 साल के थे।
  7. मेरठ में एक बैंक कतार में इंतजार कर रहे मोहम्मद शहजाद नाम के मजदूर की मौत हो गई। वो लगातार चौथे दिन कतार में खड़े थे। लंबी कोशिशों के बावजूद उनका पैसा नहीं बदला जा सका। (हिन्दू)
  8. मध्य प्रदेश के एक 70 वर्षीय भूतपूर्व सैनिक बाबूलाल वाल्मीकि की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गई। वे भिण्ड जिले के रहने वाले थे। बैंक आने को दौरान 100 मीटर की दूरी उन्हें दिल का दौरा पड़ा और गिर पड़े। उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। वो अपने 12,000 पुराने नोट बदलने के लिए बैंक जा रहे थे। (द वीकएंड लीडर)
  9. झारखंड के पलामू के रहने वाले एक 70 वर्षीय बुजुर्ग की मौत लंबी कतार में लगने के दौरान हो गई। एक सरकारी अधिकारी के मुताबिक, रामचंद्र पासवान लंबे समय से बैंक लाइन में खड़े थे। (इंडियन एक्सप्रेस)
  10. उत्तर प्रदेश के बलिया के रहने वाले सुरेश सोनार की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गई। वे घंटों बैंक की लाइन लगे रहे लेकिन उनका नोट नहीं बदला जा सका। जिसके चलते उन्हें दिल का दौरा पड़ा और निधन हो गया। उनके परिवार वालो ने कहा कि बेटी का तिलक समारोह है, इसी को लेकर वे पैसों के लिए काफी परेशान थे। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  11. पुणे के देहाती इलके में एक बैंक के 53 वर्षीय चपरासी तुकाराम तानपुरे का मौत दिल का दौरा पड़ने के चलते हो गई। उनके सहयोगियों ने बताया कि वो कुछ दिनों से काफी परेशान थें। बैंक में भारी भीड़ से निपटने लिए उन्हें लगातार 12 घंटे तक काम करना पड़ता था। उन पर काफी दबाव था जिसको वो सहन नहीं कर पाए और हर्ट हटैक से उनकी मौत हो गई। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  12. महाराष्ट्र के नानदेड जिले में 60 वर्षीय दिगांबर कास्बे की मौत बैंक लाइन में लगने के दौरान हो गई। वे कई घंटों से कतार में लगे थे। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  13. झारखंड के बोकारो के रहने वाले 20 वर्षीय लवकुश की मौत आर्थिक तनाव के चलते हुआ। नोटबंदी के चलते उनके पिता को काम नहीं मिल रहे थे। (आईएएनएस)
  14. जब लवकुश की 70 वर्षीय दादी लक्ष्मी ने अपने पोते की मौत की खबर सुनी तो सदमे से उनकी भी मौत हो गई। (आईएएनएस)
  15. तेलंगाना के सिद्दीपेट जिले के रहने वाले 45 वर्षीय किसान बलैह ने अपने भोजन में कीटनाशक मिला कर खा लिया जिसके चलते उनकी मौत हो गई। वे कुछ दिनों से अपनी कृषि भूमि को बेचने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन नोटबंदी के चलते 6-7 लाख की जमीन की कीमत 2-3 लाख मिल रहे थे। उन पर भारी कर्ज था और वो डिप्रेसन से गुजर रहे थे। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  16. सिद्दीपेट के बलैह ने जब आत्महत्या की, तो इस खबर को सुनकर उनके 65 वर्षीय पिता गलैह का भी निधन हो गया। बलैह की पत्नी और बेटा अभी अस्पताल में भर्ती हैं। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  17. पुरानी दिल्ली में सउद-उर-रहमान की बैंक कतार में लगने के दौरान हो गई। वे 48 साल के थे। वो कई घंटों से बैंक की कतार में लगे थे। जिस दिन उनकी मौत हुई वह पुराने नोटों का दूसरा दिन था। उनके परिवार के एक सदस्य ने बताया कि वे सुबह से 5 बजे बैंक शाखा गए थे। घंटों कतार में लग इंतजार किया, जब उनकी बारी आई तो पता चला बैंक की नकदी खत्म हो गई। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  18. बरेली में 56 वर्षीय खलीक़ हसन की मौत बैंक की कतार में लगने को दौरान हो गया। खलीक़ के घरवालों ने बताया कि वो नोटबंदी की वजह से काफी तनाव में थे। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  19. मुंबई में 60 वर्षीय दीपक शाह का निधन बैंक कतार में गिरने के बाद हो गया। (इंडियन एक्सप्रेस)
  20. 23 साल के नौजवान संजय प्रजापत की मौत तब हो गई जब वो अपने पिता के आधार कार्ड लाने के लिए जल्दी में बैंक से घर जा रहे थे। वो बैंक में पुराने नोटों का आदान-प्रदान के लिए गए थे। (हफ्फपोस्ट इंडिया)
  21. आंध्रा प्रदेश में 70 वर्षीय महिला विज्या लक्ष्मी की मौत तब हो गई जब वो अपने 500 के नोट को बदवाने के लिए बैंक में प्रवेश कर रही थीं। (द हंस)
  22. पश्चिम बंगाल के कूच बिहार जिले में एक 56 वर्षीय शिक्षक धरानी कांता भौमिक की निधन हो गया। वो लगातार तीन दिन अपने पैसे को बदलवाने के लिए परेशान थीं। (आनंद बाजार पत्रिका)
  23. पंजाब के तरन तारण के रहने वाले सुखदेव सिंह की बेटी की शादी चार दिन बाद थी। लेकिन उसके पहले उनका निधन हो गया। उनकी पत्नी सुरजीत कौर ने बताया कि हमलोगों ने अपनी बेटी की शादी के लिए कुछ पैसा बचाकर रखा था। मगर कोई भी पुराना नोट लेने को तैयार नहीं था। इसी वजह से मेरे पति तनाव में थे। अचानक के उनके सीने में दर्द की शिकायत हुई और मौत हो गई। (इंडियन एक्सप्रेस)
  24. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में एक बीएसएफ के 17-वर्षीय जवान बेटे सुमित ने आत्महत्या कर ली। क्योंकि उसने अपनी मां से कुछ छुट्टे पैसे मांगे थे पर उसकी मां के पास उसे देने के लिए पैसे नहीं थे। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया)
  25. ओडिशा के संबलपुर में बीमार बच्चे की मृत्यु हो गई, क्योंकि ऑटोरिक्शा चालक उसे अस्पताल नहीं ले गए। माता-पिता के पास 500 रूपये का छुट्टा नहीं था। इसलिए ऑटोरिक्शा वाले ने उसे ले जाने से इंकार कर दिया। (रिपोर्ट ओडिशा)
  26. 75 वर्षीय लक्ष्मी नरायणा की मौत तेंलंगाना के सिकन्द्राबाद में हो गई। वो दो घंटों से आंध्रा बैंक की तार में खड़ी थीं। उनको 1.7 लाख जमा करने थे पर बैंक में वरिष्ठ नागरिकों के लिए अलग से व्यवस्था नहीं थी। (आईएएनएस)
  27. बिहार के औरंगाबाद में एक बुजुर्ग सुरेंद्र शर्मा की मौत हो गई जब वो एक बैंक कतार में अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे थे। (दौड़नगर)
  28. मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में हल्के लोधी नाम के किसान ने आत्महत्या कर लिया। वह पैसों के परेशान था। रबी की बुआई के लिए उसे खाद और बीज खरीदनी थी। उसके एक रिश्तेदार भूपेंद्र लोधी ने बताया कि वह अपने पुराने नोटों को बदले के लिए कई बार बैंक जा चुके थे। लेकिन नोट नहीं बदला जा सका। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  29. मेरठ में 60 साल के एक फैक्टरी मजदूर अजीज अंसारी का निधन दिल का दौरा पड़ने के चलते हो गया। वो तीन दिन से अपने पैसें को बदलने के लिए बैंको के चक्कर काट रहे थे। (टाइम्स ऑफ इंडिया)
  30. पूर्वी उत्तर प्रदेश के जलौन के रहने वाले एक 70 वर्षीय सेवानिवृत स्कूल शिक्षक की मौत हो गई। उनके बेटे रवि ने बताया कि उनके पिता रघुनाथ वर्मा को हमारे शादी के खर्च के लिए 2 लाख रुपये की जरूरत थी। उनके पिता तीन दिनों से बैंक जा रहे थे। उन्होंने बताया कि उनके पिता ने बैंक मैनेजर से कई बार मदद के लिए कहा। उन्होंने मैनेजर से नोट बदलने के लिए कहा पर मैनेजर ने उनकी एक न सुनी। यहां तक कि शनिवार को मैनेजर के पैरों पर गिर गए। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  31. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री महेश शर्मा के अस्पताल में एक बच्चे की मौत हो गई, क्योंकि माता-पिता के पास पुराने नोट थे। 10 हजार रूपये अस्पताल वालों को देने थे, मगर उन्होंने 100-100 के नोट मांगे, जिसे माता-पिता नहीं जुटा पाए। (वन इंडिया)
  32. नॉर्थ-इस्ट दिल्ली में एक 24 साल की रिजवाना नाम की लड़की ने दुपट्टा में खुद को बांधकर फांसी लगा लिया। रिजवाना तीन दिन से नोट बदलने के लिए बैंक की लाइन में लग रही थी। लेकिन इसके बावजूद वह अपने नोट नहीं बदल पाई। इस बात से दुखी होकर फांसी लगा लिया। (इंडियन एक्सप्रेस)
  33. गुजरात के सूरत जिला में एक 50 वर्षीय मां और उसके बच्चों ने आत्महत्या कर ली। क्योंकि पास खाने को राशन नहीं था और दुकानदारों ने पुराने नोटों लेने से इंकार कर दिया। (टाइम्स ऑफ़ इंडिया)
  34. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली में एक 20 वर्षीय महिला ने सुसाइड़ कर लिया। उसका भाई जबपूराने नोट बदलकर घर लौटा तो उसने अपनी बहन को पंखे लटका हुआ पाया। (इंडिया संवाद)
  35. कर्नाटका के चिकबाल्लापुर एक 40 वर्षीय महिला ने सुसाइट कर लिया, क्योंकि 15 हजार रूपये लेकर बैंक बदलवाने गई और उसका पैस चोरी हो गया। उसने यह पैसा अपने शराबी पति से बचाकर रखा था। (न्यू इंडियन एक्सप्रेस)
  36. छत्तिसगढ़ में 45 साल के एक किसान ने आत्महत्या कर लिया, क्योंकि तीन दिनों तक बैंकों का चक्कर लगाने के बाद भी उसका 3,000 रूपया नहीं बदला जा सका। उसे तमिलनाडू में फंसे बच्चों को पैसे भेजना था। बच्चों का पैसा एक ठेकेदार लेकर भाग गया था और घर आने को उनके पास पैसे नहीं थे। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया)
  37. गुजरात में सुरेंद्रनगर जिले के लिम्बडी शहर में, एक 69 साल के बुजूर्ग की मौत हो गई। वो बैंक ऑफ इंडिया शाखा की साखा में नोट चेंज करने के लिए खड़े थे और दिल का दौरा पड़ाऔर उनकी मौत हो गई। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया)
  38. कानपुर में एक बुजुर्ग महिला नोटबंदी के बाद अपने पैसे को गिन रही थी, इसी दौरान दिल का दौरा पड़ा और मौत हो गई। पुलिस ने उसके शव के पास 69 लाख रुपये का नोट पाया। (दैनिक भास्कर)
  39. कानपुर में एक नौजवान को 8 दिसंबर को दिल का दौरा पड़ा जब वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टी.वी पर नोटबंदी का घोषणा करते सुना। दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई। कुछ ही दिनों पहले उसने अपनी जमीन के ग्राहकों से 70 लाख रूपये एडवांस लिए थेा। वह महीनों से अपनी जमीन को बेचने की कोशिश कर रहे थे। (एबीपी न्यूज़)
  40. मुंबई में एक नवजात शिशु की मौत हो गई क्योंकि प्राइवेट अस्पताल वालों ने उसे एडमिट नहीं किया। उस बच्चे के पिता के पास हजार-हजार के नोट थे और अस्पताल वोलों ने उसेलेने से इंकार कर दिया, जिसके कारण नवजात की मौके पर मौत हो गई। (मुंबई मिरर)
  41. विजाग में एक 18 महीने बच्चे की मौत हो गई, क्योंकि उसके माता-पिता के पास दवा खरीदने के लिए पैसे नहीं थे। अस्पताल वालों ने 500 और हजार पुराने नोट लेने से इंकार कर दिया। (टाइम्स ऑफ़ इंडिया)
  42. उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में डॉक्टरों ने एक साल के बच्चे का इलाज करने से मना कर दिया। बच्चे को तेज बुखार था और माता-पिता के पास 100 रुपये में नोट नहीं थे फीस जमा करने के लिए। मजबूरन माता-पिता उसे लेकर घर गए जहां उसकी मौत हो गई। (टाइम्स ऑफ़ इंडिया)
  43. राजस्थान के पाली जिले में एम्बुलेंस वाले ने एक नवजात को सिर्फ इसलिए अस्पताल नहीं ले गया क्योंकि उसके पिता चम्पलाल मेघवाल के पास 500 और हजार नोट थे। पिता समय पर 100 रुपये में नोटों को नहीं ला सके औरबच्चे की मौत हो गई। (इंडियन एक्सप्रेस)
  44. उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में एक कपड़ा धोने वाली महिला की मौत हो गई। वह बैंक में अपने एक-एक हजार के दो नोटों को लेकर जमा करने गई थी। जब बैंक वालों की तरफ से बताया गया कि यह रूपया अब नहीं चलेगा तो सदमे में उसकी मौत हो गई। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  45. तेलंगाना के महुबाबाद जिले के रहने वाले 55 वर्षीय कंदुकूरी विनोदा नाम की महिला की तब मौत हो गई जब उन्हें पता चला की अब पुराने नोट नहीं चलेंगे। उन्होंने 54 लाख रूपये जमीन बेचकर जमा की थी। यह पैसा उन्होंने अपने पति के इलाज के लिए और बेटी की दहेज के लिए देने के लिए जमा की थी। नोटबंदी के की खबर आने के बाद उन्होंने आत्महत्या कर ली। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  46. पश्चिम बंगाल के हावड़ा में एक पति ने अपनी पत्नी की जान सिर्फ इसलिए मार दियाक्योंकि वह एटीएम से नए नोट निकालने में नाकाम हो गई। (टाइम्स ऑफ़ इंडिया)
  47. बिहार के कैमूर में एक पिता के बेटी की शादी थी। उसे इस बात का डर था कि दहेज में बेटी के ससुराल वाले पुराने नोट लेगें। इसी चिंता में दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई। (इंडिया टुडे)
  48. केरल के थालास्सेरी में एक 45 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। वो नोटबंदी के बाद अपने 5 लाख रुपये जमा करने के लिए जमा करने के लिए गया था। स्थानीय मीडिया की खबरों के अनुसार, वह नोटों को बदलने में पहले दिन सफल नहीं हो सका था और दूसरे दिन जमा करने पहुंचा तोडिपोजिट स्लीप भरते हुए उसकी पैर फिसली और गिर कर मौत हो गई। (न्यू इंडियन एक्सप्रेस)
  49. मुंबई में 72 साल के एक वृद्ध विश्वास वर्तक की मौत बैंक में पुराने नोटों को जमा करने के दौरान हो गई। इसी दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा और निधन हो गया। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  50. गुजरात के तारापुर में एक 47 वर्षीय किसान की मौत बैंक मेंपुराने नोटों का आदान-प्रदान करने के दौरान मौत हो गई। वो अपनी बारी आने के इंतजार में लाइन में खड़े थें और दिल का दौरा पड़ा और निधन हो गया। उन्हें पैसों की जरूरत थी ताकि खेत मजदूरों का भुगतान कर सकें। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया)
  51. केरल के अलाप्पुझा में एक 75 वर्षीय कार्तिकेयन की मौत बैंक लाइन में खड़ा रहने के दौरान हो गई। वो लंबे समय से कतार में खड़े थे। (द न्यूज़ मिनट)
  52. कर्नाटक के उडुपी में एक 96 वर्ष के एक व्यक्ति की मौत बैंक कीकतार में खड़े होने दौरान हो गई। उनका बैंक खाता नहीं था। (टाइम्स ऑफ़ इंडिया)
  53. मध्य प्रदेश में एक 69 वर्षीय एक व्यक्ति विनय कुमार पांडेय की मौत हो गई। वे एक सेवानिवृत्त बीएसएनएल कर्मचारी थे और रूपये चेंज करने बैंक गए थे, जहां एक कतार में लगने के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। (प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया)
  54. भोपाल में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एक कैसिअर की मौत दिल का दौरा पड़ने के कारण हो गया। बैंक कर्मचारियों पर सरकार की तरफ से अतिरिक्त घंटे लगाने और बड़े कतारों को उन्होंने देखा जिसके चलते उनकी मौत हो गई। (हिंदुस्तान टाइम्स)
  55. उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में एक व्यापारी की तब मौत हो गई जब उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 8 नवंबर को नोटबंद करने की घोषणा करते हुए सुना। सीने में दर्द महसूस हुआ और डॉक्टर के पास ले जाते समय उनकी मौत हो गई। (फाइनेंसियल एक्सप्रेस)
TOPPOPULARRECENT