Thursday , December 14 2017

नोटबंदी के दौरान 246 करोड़ रुपए जमा करने वाला शख्स पकड़ा गया

चेन्नई। नोटबंदी की घोषणा के बाद नामक्कल जिले के तिरुचेनगोडे में रहने वाले एक शख्स ने इंडियन ओवरसीज बैंक की एक शाखा में 246 करोड़ रुपए जमा किए थे। 200 से अधिक व्यक्तियों और कंपनियों ने तमिलनाडु और पुडुचेरी में विभिन्न बैंक खातों में 600 करोड़ रुपये की अघोषित राशि को जमा कराया है। आयकर विभाग के एक अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि इतनी अधिक रकम जमा करने के बाद से ही उस शख्स पर विभाग नज़र बनाये हुए था।

 

 

 

यह राशि जमा होने के बाद से विभाग उसकी गतिविधियों पर नजर रख रहा था और 15 दिन के बाद उसे पकड़ लिया गया। रिपोर्ट के मुताबिक पहले तो उसने पूरे मामले को छिपाने की कोशिश की, लेकिन कुछ दिन बाद वह प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से जुड़ने के लिए तैयार हो गया। वह व्यक्ति कुल रकम का 45 प्रतिशत टैक्स के रूप में देगा।

 

 

अधिकारी ने बताया कि उसके द्वारा बैंक में जमा किए सभी नोट 500 और 1000 रुपए के थे। इसके कई अन्य लोगों और कंपनियों ने भी खाते में पैसे जमा किए हैं और अघोषित संपत्ति होने की बात की स्वीकार की है। ज्यादातर लोगों ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना ज्वाइन कर ली है। यह योजना 31 मार्च को बंद हो रही है। विभाग की ओर से उम्मीद जताई गई है कि इस महीने के आखिर तक कुल अघोषित संपत्ति एक हजार करोड़ रुपए पहुंच जाएगी।

 

 
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना, भारत सरकार की एक योजना है जिसमें भ्रष्ट लोगों बैंकों में जमा कराये जाने वाले काले धन को सरकार गरीबों के विकास में लगाएगी। इस योजना के तहत गरीब कल्याण योजना में पैसे जमा कर सकते हैं,इसके लिए सरकार ने 31 मार्च तक का समय दिया है. साथ ही इस योजना के तहत सिर्फ एक बार ही पैसा जमा किया जा सकता है.

TOPPOPULARRECENT