Saturday , December 16 2017

नोटबंदी के विरोध की वजह से ममता बनर्जी को मारने की साजिश थी, इंधन कम होने के बावजूद नहीं उतरने दिया गया विमान: मंत्री

कोलकाता: एनएससीबीआई हवाईअड्डे पर बुधवार रात प्राइवेट एयरलाइन कंपनी का एक विमान आधे घंटे से अधिक समय तक शहर के आसमान चक्कर लगाता रहा जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सवार थीं। इस पर तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया कि यह पार्टी अध्यक्ष ममता बनर्जी को मारने का एक षड्यंत्र था।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

जनसत्ता की खबरों के अनुसार तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहद हकीम जो ममता के साथ उसी विमान में थे। उन्होंने कहा, कि ‘पायलट ने विमान को उतारने के लिए एटीसी से अनुमति मांगी क्योंकि विमान में ईंधन कम था लेकिन एटीसी ने विमान को रोके रखा। यह और कुछ नहीं बल्कि हमारे मुख्यमंत्री की हत्या का षड्यंत्र था क्योंकि उन्होंने नोटबंदी के खिलाफ आवाज उठाई है और जनविरोधी निर्णय के खिलाफ जन आंदोलन के लिए देश का दौरा कर रही हैं।’ सम्पर्क किये जाने पर एटीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्हें ऐसी किसी घटना की जानकारी नहीं है।
हकीम ने दावा किया कि पायलट ने कोलकाता से 180 किलोमीटर दूर घोषणा की कि विमान पांच मिनट के भीतर उतर जाएगा, विमान अंतत: आधे घंटे से अधिक समय बाद उतरा।

हवाईअड्डा अधिकारियों ने कहा कि विमान ने पटना से निर्धारित समय से एक घंटे देरी से शाम सात बजकर 35 निनट पर उड़ान भरी और यहां तकनीकी कारणों से आसमान में आधे घंटे से अधिक समय तक चक्कर लगाने के बाद रात नौ बजे से कुछ समय पहले उतर गया। अधिकारियों ने कहा कि किसी भी हवाईअड्डे पर ऐसी घटना कोई नई बात नहीं है।

पार्टी के सांसद मुकुल रॉय ने कहा, ‘जब विमान बुधवार रात को 8.45 मिनट पर लैंड हुआ तो एयरपोर्ट पर एंबुलेंस और फायर इंजन तैनात थे। मुझे बताया गया कि विमान में ईंधन कम होने की वजह से ऐसा किया गया है। एयर ट्रैफिक इस बात से इनकार कर रहा है कि उन्हें पायलट ने कम ईंधन होने की बात नहीं बताई थी। इसलिए टूरिज्म एंड एविएशन की पार्लियामेंट स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमैन होने के नाते मैं सिविल एविएशन मिनिस्टर और एयरपोर्ट अथॉरिटी के चेयरमैने को इस मामले की जांच करने के लिए कहूंगा।’

TOPPOPULARRECENT