Tuesday , December 12 2017

नोटबंदी: चीन से मंगाए जा रहे हैं एटीएम के पार्ट्स

नई दिल्ली: नोटबंदी की घोषणा को अब लगभग एक हफ्ता हो चुका है और एटीएम से 500 और 2000 रूपये के नोट निकालने में अभी भी समस्या हो रही है. अभी तक पूरे देश में मौजूद 202,000 एटीएम में से केवल 22,500 को ही नए नोट स्वीकारने के लिए सुधारा जा सका है.

एटीएम ठीक करने के काम में हो रही देरी की वजह से जनता की परेशानी और बढ़ रही है. ऐसे समय में सरकार के सामने इन मशीनों को ठीक करने के लिए ज़रूरी पार्ट्स की कमी भी एक चुनौती है. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सरकार ने इस कार्यवाही को जल्दी पूरा करने के लिए चीन से इन ज़रूरी हिस्सों को खरीदा है और यह जल्द ही भारत पहुँच जायेंगे.

“चुंबकीय हिस्सा और हार्डवेयर, जिसे चुंबकीय स्पेसर और कील के रूप में जाना जाता है, वह स्टॉक में नहीं हैं। एक बार जब इसकी आपूर्ति हो जाएगी, तब सभी एटीएम को सही करने में एक सप्ताह से अधिक समय नहीं लगेगा,” स्टेट बैंक की चेयरमैन अरुंधति भट्टाचार्य ने कहा, हालांकि सभी मशीनों में इन भागों की जरूरत नहीं है। “पर्याप्त आपूर्ति के लिए आदेश दे दिया गया है और अब ये हिस्से लगातार प्राप्त हो रहे हैं।”

वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कुछ बैंकों ने सरकार को बताया है कि स्थिति प्रबंधनीय है। “यह एक बड़ी समस्या नहीं है और बैंक पुर्जों की आउटसोर्सिंग कर रहे हैं,” उन्होंने कहा। पुराने नोटों को वापस ले लेने की वजह से मशीनें अभी केवल 100 रुपये (या 50 रुपये) नोटों वितरित कर सकते हैं और तेजी से मशीनों में पैसा ख़त्म हो रहा है।

एक अन्य बैंकर ने इकोनोमिक टाइम्स से बातचीत में बताया कि पुर्जे हासिल करने और डिस्पेंसर्स में परिवर्तन करने में कुछ समय लग सकता है। “हमारा लक्ष्य कम से कम 50,000 मशीनों को अगले सप्ताह तक सही करना है। अगर वे 24 × 7 काम करते हैं, तो हम इस समस्या का प्रबंधन कर पाएंगे, “उन्होंने कहा।

नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया (एनपीसीआई) के एक अधिकारी ने कहा कि इस मुद्दे को अगले कुछ दिनों में कर लिया जायेगा। स्वदेशी रूपे कार्ड का पेमेंट गेटवे सुचारू रूप से कार्य कर रहा है। “हमारे गेटवे से 35 लाख लेनदेन की प्रक्रिया हुयी हैं, जिनमें से 25 लाख की बिक्री मशीनों के ज़रिये और छह लाख के आसपास एटीएम पर हुयी हैं,” उन्होंने कहा।

TOPPOPULARRECENT