Thursday , July 19 2018

नोटबंदी, जीएसटी के बाद NCERT की किताबें अपडेट होंगी

भारत में अगली जनगणना के लिए तीन साल से कुछ ज्यादा ही दिन बचे हैं। लेकिन NCERT की कक्षा आठ की सामाजिक विज्ञान की किताबों में भारत की साक्षरता के संबंध में जो आकंड़े दिए गए हैं वो साल 2001 पर आधारित हैं।

जबकि आवास की उपलब्धता, बिजली और पाइप से सप्लाई होने वाले पानी के आंकड़े साल 1994 के आंकड़ों पर आधारित हैं। हालांकि NCERT ने अपनी सभी 182 किताबों को अपडेट करने की तैयारी शुरू कर दी है।

इन किताबों में नए पाठ्यक्रमों को शामिल किया जाएगा। इनमें हाल में हुए नए विकास जैसे जीएसटी, नोटबंदी, बेटी बचाव बेटी बढ़ाओ के साथ स्वच्छता अभियान जैसे विषयों को शामिल किया जाएगा।

NCERT ने किताबों में कुल 1,334 बदलाव किए हैं। मतलब हर किताब में करीब सात बदलाव किए गए हैं। इसके अलावा पुस्तकों में उच्चारण संबंधित त्रुटियों को दूर किया जाएगा और भाषा को आसान बनाया जाएगा।

NCERT के डायरेक्टर ह्रषिकेश सेनापति ने टीओआई को बताया कि किताबें एक महीने में तैयार हो जाएंगी। जिन्हें तुरंत छपाई के लिए भेज दिया जाएगा।

किताबों अगले साल अप्रैल में नया सत्र शुरू होने से पहले मार्च में सभी स्कूलों में भेज दी जाएंगी। वहीं कोई भी छात्र व्यक्तिगत स्तर पर ऑर्डर दे सकता है।

 

TOPPOPULARRECENT