Thursday , November 23 2017
Home / Khaas Khabar / नोटबंदी: भूखे लोगों का सहारा बने नोएडा के कुछ मुस्लिम लोग, मजदूरों को खिला रहे फ्री में खाना

नोटबंदी: भूखे लोगों का सहारा बने नोएडा के कुछ मुस्लिम लोग, मजदूरों को खिला रहे फ्री में खाना

नोएडा:  नोटबंदी के दौर में जहाँ लोग पैसे न होने के कारण त्राहि-त्राहि मची हुई हैं। लोग पैसे न होने कारण परेशान होकर, लाइनों में लगकर तो कभी भूख से मर रहे हैं। लोग अपनी परेशानी में इतने डूबे हुए हैं की किसी दुसरे की परेशानी देखना चाहे भी तो नहीं देख पा रहे। मदद करना तो दूर की बात है। ऐसे माहौल में किसी इंसान की लोगों की मदद करना एक मिसाल बन जाती है।

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक ऐसी ही एक मिसाल देखने को मिली नोएडा के सैक्टर 93 में। जोकि इलाके का मैं बिज़नस हब माना जाता है। जहां नंदन राम का एक कचौरी बेचने वाला शख्स ठेला लगाए खड़ा है और फ्री में लोगों को कचौरी सब्जी की थाली खाने को दे रहा है। सुबह से शाम तक यहाँ कचौरी बेचने वाले नंदन से जब पूछा गया कि वह इतना स्वादिष्ट खाना सुबह से लेकर शाम तक कैसे बेच रहा है तो उसने इस कमाल के पीछे कुछ मुस्लिम लोगों के समूह को बताया। नंदन ने बताया कि मुस्लिम लोगों का यह समूह इस खाने का सारा इंतज़ाम करता है लेकिन उन्होंने अपना नाम सार्वजनिक करने से मना किया है।

बिज़नेस हब वाले इस एरिया में ज्यादातर लोग बाहर के दिखाई पड़ते हैं और जोकि मजदूरी करने के लिए आते हैं। नोटबंदी के बाद आई मंदी का असर सारे देश में ही देखने को मिल रहा है। इसलिए लोगों के पास आई पैसे की कमी के चलते उन्होंने जरूरतमंद लोगों के लिए मुफ्त खाना देने का जिम्मा उठाया है। गौरतलब है की ज्यादातर दिहाड़ी करने वाले मजदूर लोग आजकल काम से बेजार हो गए हैं। उनके पास खाने के भी पैसे नहीं तो नंदन और कुछ मुस्लिम लोग जितने लोगों को हो सकें खाना मुहैया करवा रहे हैं।

नंदन ने बताया कि वह और उसकी बीवी पिछले सात दिनों से सुबह से शाम तक 70 से 80 लोगों को वह खाना खिला देते है। जनता का रिपोर्टर ने जब इस मुहिम से जुड़े मुसलमानों से बात की तो उन्होंने अपना नाम ना बताए जाने की शर्त पर कहां कि देश के प्रति उनका ये फर्ज है कि उनके आस-पास रहने वाला कोई भी परिवार भूखा ना रहे।

TOPPOPULARRECENT