Friday , September 21 2018

नोटबंदी: लाइन में खड़े हजरत अंसारी की हार्ट अटैक से मौत

महम्मदपुर, गोपालगंज। हृदय रोग से पीड़ित पिता के इलाज के लिए बैंक से रुपये निकालने के लिए हजरत अंसारी अपनी पत्नी नजमा खातून के साथ सोमवार को सुबह सात बजे ही लाइन में लग गये। दोपहर एक बजे तक उनका नंबर भुगतान के लिए नहीं आया, लेकिन इसी बीच उनके सीने में तेज दर्द उठा और वे चीख कर वहीं गिर पड़े। अचेतावस्था में उन्हें पास के एक डॉक्टर को दिखाया गया, डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सिधवलिया थाने के शीतलपुर गांव के आंगनबाड़ी सेविका नजमा खातून और उसके पति हजरत अंसारी बैंक ऑफ इंडिया मे पैसा निकालने के लिए लाइन में लगे थे। दोपहर एक बजे के करीब जब वे बैंक गेट के पास पहुंचे, अचानक हजरत सीने में दर्द बता कर गिर पड़े और बेहोश हो गये। पत्नी के चिल्लाने पर आसपास के लोग उन्हें सिधवलिया अस्पताल ले गये। सिधवलिया अस्पताल के प्रभारी मनौवर आलम ने बताया कि युवक की मौत अस्पताल पहुंचने से पूर्व ही हो चुकी थी। नजमा खातून ने बताया कि उनके ससुर हृदय रोगी हैं।

उनका इलाज कराने के लिए हम दोनों पैसा निकालने आये थे। हजरत की मौत के बाद उनके पिता मोहम्मद इस्लाम अंसारी बेसुध पड़े हुए हैं। वह बार-बार कहते हैं- मैं तो बेटे के सहारे ही जिंदा था, अब कौन सहारा देगा। खुदा ने हमी को उठा लिया होता, तो अच्छा होता। हजरत की तीन बेटियां और एक बेटा पिता की मौत पर चीत्कार रहे हैं। घटना के बाद स्थानीय पुलिस बैंक पहुंची और लोगों को कतारबद्ध करती रही।

TOPPOPULARRECENT