Tuesday , November 21 2017
Home / India / नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला, मोदी ने देश को धोखा दिया: केजरीवाल

नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला, मोदी ने देश को धोखा दिया: केजरीवाल

मेरठ : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी को देश में अब तक का सबसे बड़ा घोटाला बताया है| उन्होंने प्रधानमन्त्री ने नोटबंदी की योजना कालाधन बंद करने के लिए नहीं बल्कि अपने लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए लाई गई है|

केजरीवाल ने आरोप लगाया कि प्रधानमन्त्री ने नोटबंदी का फैसला अपने दोस्तों का कालाधन सफेद करने के लिए लिया है | उन्होंने कहा कि सिर्फ़ गरीब और आम लोग लाइन में लगे हुए हैं | छह लाख करोड़ रुपए आम लोगों ने जमा कर दिया, कालाधन वाले जमा करने नहीं आए | उन्होंने कहा कि आयकर कानून में बदलाव सरकार ने इसलिए किया है जिससे काले धन वाले लोग इसे ‘फिफ्टी-फिफ्टी’ कर ले| चाहे वह पैसा आतंकवाद से कमाया गया हो या ड्रग्स से कोई इस बारे में नहीं मालूम करेगा | उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि  नोटबंदी क्यों की गयी है |नोटबंदी के बहाने भाजपा वालों ने अपना कालाधन ठिकाने लगाया है | ये 8 लाख करोड़ रुपए का घोटाला है |
केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस ने टूजी एवं कोयला घोटाला किया और मोदी जी ने 2 साल में आठ लाख करोड़ का घोटाला किया| उन्होंने आरोप लगाया बैंक का नौ हजार करोड़ कर्ज दार विजय माल्या को मोदी जी ने लन्दन भिजवा दिया| केजरीवाल ने दावा किया कि पीएम लगातार लोगों का कर्ज माफ करते जा रहे हैं|उन्होंने केंद्र सरकार से सवाल किया उन बड़े लोगों को अभी तक जेल क्यों  नहीं भेजा गया जिन्होंने बैंको का पैसा दबाया है |

आगामी उत्‍तर प्रदेश चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की करारी हार की भविष्‍यवाणी करते हुए केजरीवाल ने  ट्विटर पर लिखा, ”UP की जनता नोटबंदी से बेहद नाराज़ | उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में जनता भाजपा से लाइन में बिताए एक एक मिनट का बदला लेगी |

 

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मोदीजी ने देश को धोखा दिया। उन्हें सरकार चलाना नहीं लोगों को लाइन में लगाना आता है |केजरीवाल ने मीडिया पर भी तंज़ किया | उन्होंने कहा कि भाषण मोबाइल में रिकार्ड करके ले जाओ और मोहल्लों में दिखाना क्यूंकि  मीडिया उनकी बात नहीं दिखाएगा| इससे पहले केजरीवाल को मेरठ के परतापुर में कुछ लोगों द्वारा काले झंडे दिखाए गये और उनके खिलाफ नारेबाजी भी की गई |

 

TOPPOPULARRECENT