Wednesday , June 20 2018

नोटबंदी साइडइफेक्ट: रेल टिकट कैंसिल कराने पर 10 हजार से ज्यादा का नकद रिफंड नहीं

नई दिल्ली।केंद्र सरकार के मंगलवार की रात से 500-1000 रुपये के नोट को कागज करार दिये जाने के बाद रेल प्रशासन ने टिकट रद्द करने पर 10 हजार रुपये से ज्यादा की राशि नकद रिफंड न करने का फैसला लिया है।कल विजिलेंस विभान ने एक अर्लट जारी कर सरकार को चेताया था कि लोग वेटिंग टिकट बुक कराके बाद में उसका रिफंड कराके काले धन को सफेद कर रहे हैं। विजिलेंस विभाग को शक है कि 500 और 1000 के पुराने नोटों को नए नोटों से बदलने के लिए कुछ लोग वेट लिस्ट का टिकट बुक कर रहे हैं।

पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक कार्यालय ने गुरुवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि नौ नवंबर से 11 नवंबर के बीच रेलवे आरक्षण कार्यालय से बुक किए गए टिकट को रद्द कराने पर 10 हजार रुपये से अधिक का रिफंड आने पर धन वापसी नकद नहीं दी जाएगी। यात्री को उसकी टिकट का रिफंड चेक द्वारा या नेट बैंकिंग द्वारा दिया जाएगा।

रेलवे के मुताबिक, इस तरह के टिकट को रद्द करने के लिए यात्री को टिकट रद्दीकरण की निर्धारित समय सीमा के अंदर एक टीडीआर भरना होगा। साथ ही अपना ओरिजनल टिकट काउंटर पर जमा करना होगा। रेलवे ने यह भी आदेश दिया है कि 10 हजार रुपये से अधिक का रिफंड होने पर धन वापसी चेक द्वारा या यात्री के खाते में ईसीएस द्वारा जमा की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT