नोट बदलवाने और जमा करने में भी लोगों के साथ ठगी

नोट बदलवाने और जमा करने में भी लोगों के साथ ठगी
Click for full image

झाबुआ : हजार-पांच सौ के नोट बदलवाने और जमा करने में भी लोगों के साथ ठगी की जा रही है। हजारों ग्रामीण नोट बदलवाने बैंक अा रहे हैं। बैंकों में ग्रामीणों से जो फॉर्म भरवाया जा रहा है। वह अंग्रेजी में है। जिसे ग्रामीण नहीं भर पा रहे हैं। बैंकों में ये फॉर्म भी खत्म हो चुके हैं। इससे इसकी फोटो कॉपी करवानी पड़ रही है। एक फॉर्म की फोटो कॉपी के 20 रुपए लिए जा रहे हैं। साथ ही फॉर्म भरने के 50 रुपए लिए गए। सुबह से भूखे-प्यासे लाइन में लगे ग्रामीणों ने बताया कि चार घंटे से लाइन में लगने के बाद जब नंबर आया तो बैंक कर्मचारी ने फॉर्म अधूरा और गलत भरा है। इसे सही कर के लाओ। इससे चार घंटे लाइन में लगने के बाद फिर से लाइन में लगना पड़ेगा। समय अधिक होने से ग्रामीण बैरंग लौट गए। अब शनिवार को फिर आएंगे।

ग्रामीणों की समस्या को देखते हुए विधायक मित्र मंडल और व्यापारी संघ युवा इकाई ने एसबीआई के सामने एक कैंप लगाया। जहां पर युवाओं ने लोगों के फॉर्म भरे। इसके साथ ही नि:शुल्क फोटोकॉपी भी कर रहे थे। ग्रामीणों की संख्या अधिक होने से सभी को राहत नहीं मिल पा रही है। इससे यहां पर युवाओं की संख्या में इजाफा किया जाएगा। पैसे खर्च करने पर भी लौटे बैरंग नोट बदलवाने आए ग्रामीण डेनिस भूरिया, टिहीया कालिया, नरन अमलियार, रमेश बिलवाल ने बताया कि कोई भी सामान खरीदने पर व्यापारी 500 के 400 और 1000 के 800 रुपए दे रहे हैं। इससे नोटों को जमा कराने गांव से आए हैं। फॉर्म अंग्रेजी में है। हमें अंग्रेजी नहीं आती है। बैंक में फॉर्म भी नहीं मिल रहे हैं। बाहर फोटो कॉपी कराने पर 20 रुपए लिए। इसके अलावा 50 रुपए में फॉर्म भर रहे हैं। घंटों लाइन में लगने के बाद बैरंग लौटना पड़ रहा है। साथ ही फोटो कॉपी के पैसे और फॉर्म भरवाई के पैसे लगे वो अलग। गांव से आने -जाने में किराया भी बेकार गया।

Top Stories