Sunday , November 19 2017
Home / India / नोट बैन: बैंक की लंबी लाइन में रिटायर्ड कर्मी की मौत, 90 हज़ार की जेब कटने से रो पड़ा किसान

नोट बैन: बैंक की लंबी लाइन में रिटायर्ड कर्मी की मौत, 90 हज़ार की जेब कटने से रो पड़ा किसान

: 500-1000 के पुराने नोट बदलने की जद्दोजहद में MP के सागर में एक रिटायर्ड BSNLकर्मी को हार्ट अटैक आ गया. वह करीब 30 मिनट बैंक के बाहर पड़ा रहा, लेकिन सहायता के लिए न 100 पहुंची और न 108, लिहाजा उसकी मौत हो गई. हैरानी की बात यह है कि किसी की जान बचाने के बजाय, ज्यादातर लोगों ने लाइन से हटने का मुनासिब नहीं समझा. उधर, टीकमगढ़ में कुछ लोग एक किसान की जेब से 80,600 रुपए निकाल ले गए. रिपोर्ट दर्ज करवाते वक्त किसान बिलख-बिलख कर रो पड़ा.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

दैनिक भास्कर के अनुसार, मप्र के सागर में मकरोनिया क्षेत्र में यूनियन बैंक में शनिवार को सुबह BSNL से रिटायर्ड अकाउंटेंट विनोद कुमार पांडे(69) 4000 रुपए के 500-1000 के नोट लेकर उन्हें चेंज कराने पहुंचे थे. बैंक यहां फर्स्ट फ्लोर पर स्थित है. नीचे लंबी लाइन लगी थी. पांडे काफी देर तक लाइन में खड़े रहे. अचानक उन्हें चक्कर आए और वे गिर पड़े. कुछ लोगों ने फौरन 100 डॉयल और 108 को कॉल किया, लेकिन 30 घंटे तक इंतजार के बावजूद दोनों में से कोई नहीं पहुंचा. करीब 12.30 बजे उन्हें निजी वाहन से समीप के प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उन्हें बचाय नहीं जा सका. पांडे को जमीन पर बेसुध पड़े देखने के बावजूद ज्यादातर लोगों ने लाइन छोड़कर उनकी मदद करने की इंसानियत नहीं दिखाई.
वहीँ टीकमगढ़ के बड़ागांव निवासी सुखदयाल यादव अपने बेटे चंद्रभान यादव के साथ रुपए जमा कराने बैंक गए थे. इस बीच किसी ने उनकी जेब काट ली और 85,600रुपए निकाल लिए. इस वारदात को पुलिस की मौजूदगी में अंजाम दिया गया. परेशान किसान ने रोते-रोते पुलिस को पूरा घटनाक्रम सुनाया. उधर, नरसिंहपुर की एक बैंक में रुपए एक्सचेंज करने का फार्म 10-10 रुपए में बेचा जा रहा है.
सरकार ने रोजाना चार हजार रुपये तक बैंकों में पांच सौ और एक हजार रुपये के नोट जमा कराने की सुविधा दी है. यह सुविधा 30 दिसंबर तक जारी रहेगी. इसके लिए लोगों को अपनी पहचान के रूप में आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र अथवा कोई और सरकारी साक्ष्य प्रमाण के रूप में देना होगा. नोटों को बंद करने की घोषणा के बाद 9 नवंबर को बैंक बंद रखे गए थे. लोगों की सुविधा के लिए 12 और 13 नवंबर शनिवार और रविवार को भी बैंक

उल्लेखनीय है कि 500 व 1000 के नोटों को बदलवाने के लिए शनिवार को भी सुबह से बैंकों में खासी भीड़ रही. आलम ये था कि बैंक खुलने से पहले ही सैकड़ों लोग बाहर लाइन लगाकर खड़े हो गए थे. शहर की कई शाखाओं में अफरा-तफरी का माहौल रहा. सूचना के अनुसार शहर की कई बैंक शाखाओं में शुक्रवार तक 500 व 2000 के नए नोट नहीं पहुंचे थे. लोगों को 100 रुपए के नोट ही दिए जा रहे थे.
आप को बता दें कि ग्रामीण इलाके में बहुत सी जगहों पर अभी तक नोट नहीं पहुँचने से लोगों की परेशानी दिन पर्तिदिन बढती ही जारही है. जिन लोगों को 2000 रूपये का नोट मिला भी है तो उस के खुल्ले नहीं मिल पारहे हैं. जिस से रोज़मर्रा की ज़िन्दगी दोभर हो गई है.

TOPPOPULARRECENT