Tuesday , December 19 2017

न्यूकलीयर मुआहिदाः इरानी ज़राए इबलाग़ की राय मुनक़सिम

न्यूकलीयर प्रोग्राम पर इरान के छः आलमी ताक़तों के साथ तय पाए मुआहिदा के ख़ाका के ताल्लुक़ से इरानी मीडिया में मुनक़सिम राय सामने आई है। कट्टर पसंद मौक़िफ़ के हामिल अख़बारात में अमरीका और दूसरे ममालिक के साथ इरान के मुज़ाकरात पर अंदेश

न्यूकलीयर प्रोग्राम पर इरान के छः आलमी ताक़तों के साथ तय पाए मुआहिदा के ख़ाका के ताल्लुक़ से इरानी मीडिया में मुनक़सिम राय सामने आई है। कट्टर पसंद मौक़िफ़ के हामिल अख़बारात में अमरीका और दूसरे ममालिक के साथ इरान के मुज़ाकरात पर अंदेशों का इज़हार ही किया गया है।

इस मुआहिदा को यक्सर मुस्तरद कर देने की बजाय इन इदारों ने हालिया बात चीत के मुख़्तलिफ़ पहलूओं पर रौशनी डाली और ये सवाल किया है कि इस मुआहिदा से किस को फ़ायदा हुआ है। इरान के रुहानी रहनुमा आयतुल्लाह ख़ामिनई ने अभी इस मुआहिदा के ताल्लुक़ से कोई बाज़ाबता रद्दे अमल ज़ाहिर नहीं किया है।

एक क़दामत पसंद अख़बार केहान ने इस मुआहिदा को मुआमलतदारी क़रार दिया है और सवाल किया कि इस से इरान को फ़ायदा हुआ या नुक़्सान? इस का दावा था कि इरान को इस मुआहिदा से जो नुक़्सान हुआ है वो उस को मिलने वाले फ़ायदा से कम है।

एक और अख़बार शहोन्द ने कहा कि जव्वाद ज़रीफ और उन के साथियों ने मग़रिबी ममालिक के साथ कामयाब मुशावरत की है और उन्हों ने मुआहिदा को यक़ीनी बनाया है। सदर इरान हसन रुहानी ने कल कहा था कि इरान इस सिलसिले में क़तई मुआहिदा की बहर सूरत पाबंदी करेगा।

TOPPOPULARRECENT