Monday , December 18 2017

न्यूक्लीयर मिज़ाईल पृथ्वी ।I का कामयाब तजुर्बा

हिन्दुस्तान ने आज देसी साख़ता न्यूक्लीयर सलाहीयत के हामिल पृथ्वी ।I का कामयाब तजुर्बा क्या । ये मिज़ाईल 350 केलो मीटर के फ़ासले तक वार करसकता है । ये मिज़ाईल फ़ौज के ज़ेर-ए-इस्तेमाल रहेगा । असरी सतह से सतह पर वार करने वाले मिज़ाईल का

हिन्दुस्तान ने आज देसी साख़ता न्यूक्लीयर सलाहीयत के हामिल पृथ्वी ।I का कामयाब तजुर्बा क्या । ये मिज़ाईल 350 केलो मीटर के फ़ासले तक वार करसकता है । ये मिज़ाईल फ़ौज के ज़ेर-ए-इस्तेमाल रहेगा । असरी सतह से सतह पर वार करने वाले मिज़ाईल का आज़माईशी तजुर्बा इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज चांदी पर से 9:15 बजे सुबह किया गया ।

आज़माईशी परवाज़ को कामयाब क़रार देते हुए महिकमा दिफ़ा के ज़राए ने कहा कि पुतले और लंबे मिज़ाईल का तजुर्बा दिफ़ाई फ़ौज की कमान की कार्रवाई की मश्क़ का एक हिस्सा था ।इस मिज़ाईल को तैयारी और ज़ख़ीराअंदोजी केलिए मुंतख़ब किया गया है ।उसे डी आर डी ओ ने जंगी मश्क़ केलिए तैयार किया है ।

उसे पहले ही हिन्दुस्तानी फ़ौज में तायनात किया जा सकता है । ये हिन्दुस्तान का पहले बावक़ार इंटीग्रेटेड गाईडीड मिज़ाईल प्रोग्राम के तहत तैयार करदा मिज़ाईल है ।

TOPPOPULARRECENT