Saturday , December 16 2017

पंचायत राज चुनाव में अक़लियतों के लिए बहरसूरत तहफ़्फुज़ात

हैदराबाद 18 जून: चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने कहा कि पंचायत राज इदारों के चुनाव में अक़लियतों को तहफ़्फुज़ात पर बहरसूरत अमल किया जाएगा।

हैदराबाद 18 जून: चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने कहा कि पंचायत राज इदारों के चुनाव में अक़लियतों को तहफ़्फुज़ात पर बहरसूरत अमल किया जाएगा।

उन्होंने तहफ़्फुज़ात मसले पर पसमांदा तबक़ात की तरफ से अनुदेशों के इज़हार को गैरज़रूरी क़रार दिया। चीफ मिनिस्टर ने इस मसले पर सदर प्रदेश कांग्रेस बोतसा सत्य नाराय‌ना , वज़ीर पंचायत राज के जाना रेड्डी और एमएल सी मुहम्मद अली शब्बीर से बात चीत की।

इस मौके पर पसमांदा तबक़ात की तरफ से 34 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात में अक़लियतों को 4 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी पर किए जा रहे एतेराज़ात का मसला मौज़ू बेहस रहा।

पसमांदा तबक़ात क़ाइदीन और तनज़ीमों की तरफ से चीफ मिनिस्टर से मुसलसिल नुमाइंदगी की जा रही हैके बी सी तहफ़्फुज़ात में मुस्लिम अकलियत को शामिल ना किया जाये।

चीफ मिनिस्टर ने वज़ीर पंचायत से वज़ाहत तलब की। जाना रेड्डी ने कहा कि पसमांदा तबक़ात जिन अनुदेशों का इज़हार कर रहे हैं वो गैरज़रूरी हैं।

मुसलमानों को तहफ़्फुज़ात से पसमांदा तबक़ात तहफ़्फुज़ात पर असर नहीं पड़ेगा। जिसतरह साबिक़ में मजालिस मुक़ामी इंतिख़ाबात में मुस्लिम अकलियत को पसमांदा तबक़ात की तरह तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए गए थे , इसी तरह पंचायत राज इदारों के चुनाव में तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का फैसला किया गया है।

चूँके हुकूमत ने मुस्लिम अकलियत को रोज़गार और तालीम में तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का फैसला किया है लिहाज़ा चुनाव में उन से नाइंसाफ़ी नहीं की जा सकती।

जाना रेड्डी ने वज़ाहत की के एस सी एस टी तबक़ात को रेसाती यूनिट और पसमांदा तबक़ात को ज़िला यूनिट की बुनियाद पर तहफ़्फुज़ात हैं।

इस से पसमांदा तबक़ात को फ़ायदा ही होगा। मुहम्मद अली शब्बीर ने चीफ मिनिस्टर को अक़लियतों में बे चीनी से वाक़िफ़ करवाया और कहा कि पंचायत इदारों में तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी से देही इलाक़ों से ज़्यादा नियम शहरी इलाक़ों में मुस्लिम अकलियत को फ़ायदा होगा।

लिहाज़ा बुनियादी सतह पर मुस्लिम अकलियत की नुमाइंदगी में इज़ाफे के लिए तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी ख़ुश आइंद है। उन्होंने कहा कि विशाखापटनम , वजए नगरम और श्रीकाकुलम जैसे अज़ला में अक़लियतों की आबादी कम है वहां पसमांदा तबक़ात को 65 फ़ीसद तक तहफ़्फुज़ात मिल सकते हैं।

चीफ मिनिस्टर ने वज़ाहत की के मुस्लिम अकलियत की नुमाइंदगी को मजालिस मुक़ामी में बढ़ाने कांग्रेस पाबंद अह्द है और पंचायत राज-ओ-मजालिस मुक़ामी में अक़लियतों को बहरसूरत तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए जाएंगे। उन्होंने तीक़न दिया कि अक़लियतों को तहफ़्फुज़ात के मसले पर हाइकोर्ट में जो दरख़ास्त दाख़िल की गई है इस पर हुकूमत मूसिर पैरवी करेगी।

TOPPOPULARRECENT