पटना बम धमाका : आइएम दहशतगर्द जमील अंसारी गिरफ्तार

पटना बम धमाका : आइएम दहशतगर्द जमील अंसारी गिरफ्तार
27 अक्तूबर, 2013 को पटना के गांधी मैदान में नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली के दौरान हुए सीरियल बम ब्लास्ट के एक मुल्ज़िम जमील अंसारी को एनआइए की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, मुक़ामी सतह पर किसी भी ज़राये ने इसकी तसदीक़ नहीं की है।

27 अक्तूबर, 2013 को पटना के गांधी मैदान में नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली के दौरान हुए सीरियल बम ब्लास्ट के एक मुल्ज़िम जमील अंसारी को एनआइए की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, मुक़ामी सतह पर किसी भी ज़राये ने इसकी तसदीक़ नहीं की है।

बताया जाता है कि जमील को गिरफ्तार करने के बाद टीम उसे अपने साथ दिल्ली ले गयी है। दरअसल, आइएम दहशतगर्द जमील अंसारी के बारे में आइबी को सीरियल ब्लास्ट में शामिल इम्तियाज के पॉकेट से बरामद एक परची से जानकारी मिली थी।

इम्तियाज की गिरफ्तारी के बाद जब उसकी तलाशी ली गयी थी, तब खुफिया ब्यूरो को उसकी जेब से एक परची मिली थी, जिसमें छह फोन नंबर लिखे थे। ये नंबर दहशतगर्दों ने धमाकों को अंजाम देने के बाद के लिए रखे थे, ताकि उस नंबरों पर राब्ता कर छुपा जा सके। इसमें एक नंबर जमील अंसारी का भी था, लेकिन इस नबंर का इस्तेमाल एनुल अंसारी नामी दहशतगर्द कर रहा था। एनुल भी रांची का रहनेवाला बताया जाता है।

आइबी इस मामले में फिलहाल कुछ भी बताने से इनकार कर रहा है। जमील के बारे में बताया जाता है कि वह नेपाल में आइएसआइ के राब्ता में रहता था और दहशतगर्द वाकियात के लिए फंडिंग जुटाने का काम करता था। बेतिया के जमादार टोला का रहने वाले जमील का वालिद दर्जी का काम करता है। वह भी चरस रखने के इल्ज़ाम में जेल में है।

Top Stories