Thursday , December 14 2017

पटना से छिना स्मार्ट सिटी का हक, मुजफ्फरपुर, भागलपुर हुए शामिल

पटना : आखिरकार दारुल हुकूमत का स्मार्ट सिटी का सपना टूट गया। मरकज़ी हुकूमत ने मुल्क भर में 100 स्मार्ट सिटी बनाने की मंसूबा के लिए 98 शहर चुन लिए हैं। इनमें से 64 शहरों से भाजपा के एमपी आते हैं। लिस्ट में 24 दारुल हुकूमत भी हैं।
रियासत के तीन शहरों भागलपुर, मुजफ्फरपुर और बिहारशरीफ ने स्मार्ट सिटी की फेहरिस्त में अपनी जगह बनाई। इस फेहरिस्त में गैरभाजपा हुकूमत रियासतों की दारुल हुकूमत नहीं हैं। इनमें पटना के साथ शिमला (हिमाचल), बेंगलुरू (कर्नाटक), कोलकाता (प. बंगाल), ईटानगर (अरुणाचल), गंगटोक (सिक्किम) और तिरुवनंतपुरम (केरल) शामिल हैं।

स्मार्ट सिटी के लिए बिहार के 17 शहरों की रैंकिंग की गई। इसमें पटना 15वें पायदान पर रहा। दारुल हुकूमत से सटा दानापुर भी पटना से आगे रहा। हैरानी की बात यह रही कि शहर तरक़्क़ी महकमा ने भी सौ पॉइंट्स में पटना को महज़ 35 पॉइंट्स दिए। मरकज़ी शहरी तरक़्क़ी वज़ीर एम. वेंकैया नायडू ने बताया, नाम तय होने के साथ ही पहला फेस पूरा हो गया। दूसरे फेस में दिसंबर तक टॉप-20 शहरों को चुनकर उन्हें स्मार्ट बनाने का काम शुरू हो जाएगा। 2016 में 40 व 2017 में बाकी 40 शहरों में काम शुरू होगा। देखिए अपने ही बी और सी क्लास शहरों से भी पिछड़ गई दारुल हुकूमत स्मार्ट सिटी के लिए रियासत के 17 शहरों की रैंकिंग करवाई गई। इनमें पटना सिर्फ दो शहरों से आगे है।

TOPPOPULARRECENT