Friday , December 15 2017

पटाखों से पहले बयानों की गूंज

दिवाली पर पटाखों के शोर के पहले लीडरो के बयान गूंजे। इनके बयानों ने सियासी तनाज़ा पैदा कर दिया। इस कोलाहल के मरकज़ में बीजेपी के वज़ीर ए आज़म के ओहदे के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ही रहे। हफ्ते के रोज़ मोदी और बीजेपी को निशाने पर लेते हुए क

दिवाली पर पटाखों के शोर के पहले लीडरो के बयान गूंजे। इनके बयानों ने सियासी तनाज़ा पैदा कर दिया। इस कोलाहल के मरकज़ में बीजेपी के वज़ीर ए आज़म के ओहदे के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ही रहे। हफ्ते के रोज़ मोदी और बीजेपी को निशाने पर लेते हुए कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी दिग्विजय सिंह ने कहा कि वह तालिबान के Hindu version को कामयाब नहीं होने देंगे।

मोदी को बतौर वज़ीर ए आज़म देखने की खाहिश जताने के सबब लता मंगेशकर भी कांग्रेस के तीखे जवाब का शिकार बन गईं। पटना रैली में धमाकों के दौरान मारे गए लोगों के अरकान खानदान से मिलने बिहार गए मोदी पर गुस्सा उतारते हुए नीतीश कुमार ने उन्हें नापसंददीदा करार दिया। इन लीडरों के बयानों पर बीजेपी लीडरों ने भी मोदी के नाक़दीन पर करारे अल्फाज़ी हमले किए।

लता मंगेशकर के अल्फाज़ कांग्रेस को इतने नागवार गुजरे कि उसने उन्हें सियासत से दूर रहने की सलाह दे दी। हालांकि दिग्विजय सिंह ने मोदी पर हमले के लिए लता का सहारा नहीं लिया लेकिन कांग्रेस के तर्जुमान भक्त चरण दास और मीम अफजल ने उन पर कोई मुरव्वत नहीं दिखाई।

भक्त चरण दास ने लता की मुज़म्मत करते हुए कहा कि उन्होंने गलत किया है। साथ ही जोड़ा कि बेदर्द आदमी की तारीफ से दर्द होता है। जबकि मीम अफजल ने कहा कि लता जी के बयान को बहुत सियासी अहमियत नहीं दिया जाना चाहिए। कांग्रेस के साथ भाकपा ने भी भारत रत्‍‌न लता मंगेशकर पर निशाना साधा। भाकपा लीडर अतुल अंजान ने कहा कि वह हिंदुस्तान की बुलबुल हो सकती हैं, लेकिन उन्हें हिंदुस्तान की तारीख और सियासत का इल्म नहीं है।

उन्होंने सिर्फ मोदी के प्यार में ऐसा बयान दिया। जवाब में बीजेपी के नायब सदर मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि मुल्क में सिर्फ एक आवाज उठ रही है, वह है मोदी और एनडीए को लाना है। लता जी ने उन्हीं जज़्बातों को पेश किया है। कांग्रेस भी इस बात को समझ ले, तो उसे आसानी होगी। सोशल नेटवर्किंग साइट ट्वीटर पर दिग्विजय सिंह ने आर एस एस (RSS) की बराबरी दहशतगर्द त‍ंज़ीम तालिबान से की है।

नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर ताजा हमला बोलते हुए दिग्विजय ने हफ्ते के दिन कहा कि वह हिंदुस्तान में तालिबान के Hindu version को कामयाब नहीं होने देंगे। सरदार पटेल की विरासत को ‘हथियाने’ की कोशिश के लिए मोदी पर निशाना साधते हुए सिंह ने कहा कि उन्हें डर है कि मोदी किसी न किसी दिन चंद्रशेखर आजाद और भगत सिंह को भी ‘संघ प्रचारक’ ऐलान कर देंगे। साथ ही हैरत जताया कि मोदी, पटेल की विरासत हथियाने के चक्कर में संघ को धोखा दे रहे हैं।

सिंह ने तब्सिरा किया कि क्या नरेंद्र मोदी RSS के चेहरों गोलवलकर, दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी को धोखा दे रहे हैं? क्या अब वह पटेल की विरासत हथियाने की कोशिश कर रहे हैं? उन्होंने कहा कि इसके लिए मोदी को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। संघ अपने कारकुनो को यही सिखाता है।

वहीं, धमाकों में मारे गए लोगों के रिश्तेदारों से मिलने पहुंचे नरेंद्र मोदी को लेकर बिहार में सियासी पारा गरम रहा। नीतीश कुमार ने उन्हें बाहर से आया हुआ कचरा करार दिया तो इसके जवाब में बीजेपी लीडर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि नीतीश डर गए हैं और अपना आपा खो रहे हैं।

वहीं, बिहार के बीजेपी लीडर गिरिराज सिंह ने वज़ीर ए आला को देहाती औरत बता दिया। उन्होंने कहा कि नीतीश उस देहाती औरत की तरह बर्ताव कर रहे हैं, जो दूसरी खातून से लड़ रही है। वह प्रोटोकाल की खिलाफवर्जी कर रहे हैं।

‘लता मंगेशकर का बयान सियासी तौर पर कोई अहमियत नहीं रखता है। वह छह साल तक राज्यसभा की मेम्बर रही हैं। इस दौरान उन्होंने संसद में कभी कुछ नहीं बोला। इससे पता चलता है कि सियासत में उनकी दिलचस्पी कितनी है।’

TOPPOPULARRECENT