परमाणु समझौता खत्म होगा तो भुगतना पड़ेगा अमेरिका को- हसन रुहानी

परमाणु समझौता खत्म होगा तो भुगतना पड़ेगा अमेरिका को- हसन रुहानी

नई दिल्ली। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने शनिवार को दोहराया कि उनका देश ‘आखिरी सांस’ तक उस परमाणु समझौते की शर्तों का पालन करेगा जो कि उसने दुनिया के प्रमुख ताकतवर देशों के साथ किया था।

रूहानी ने इसके साथ ही आगाह भी किया कि अगर यह समझौता टूटा तो अमेरिका को ‘पछताना पड़ेगा’।

रूहानी की यह टिप्पणी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के बाद आई है जिसमें ट्रंप ने समझौते से हटने की धमकी दी। उन्होंने परमाणु समझौते की समीक्षा की मांग की थी।

रूहानी ने कहा, ‘देश के रूप में हम (अपनी प्रतिबद्धताओं का) हमेशा पालन करते हैं। हम (इस समझौते का) उल्लंघन नहीं करेंगे और इसमें बने रहेंगे। यह तो अल्लाह का आदेश है।

अगर हम कोई समझौता करते हैं तो हम अपनी आखिरी सांस तक उसका पालन करेंगे।’ भारत यात्रा पर आए रूहानी यहां ईरान की विदेश नीति की प्राथमिकताओं पर संबोधन दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा ‘मोलभाव’ का समय अब नहीं रहा और समझौते पर हस्ताक्षर कि बाद इस पर विचार करना ‘हास्यास्पद’ है।

Top Stories