Thursday , December 14 2017

परवाज़ों को फ़र्ज़ी पाइलटों के हवाले नहीं किया जाएगा: वीलार

नई दिल्ली ०९ दिसंबर (यू एन आई) सरकार ने आज राज्य सभा को यक़ीन दिलाया है कि पाइलटों को लाईसेंस देने के अमल में किसी तरह की ढील नहीं बरती जा रही और सभी तरह की कसौटियों पर खरा उतरने वाले तर्बीयत कारों को ही पायलट लाईसैंस दिया जाता है।

नई दिल्ली ०९ दिसंबर (यू एन आई) सरकार ने आज राज्य सभा को यक़ीन दिलाया है कि पाइलटों को लाईसेंस देने के अमल में किसी तरह की ढील नहीं बरती जा रही और सभी तरह की कसौटियों पर खरा उतरने वाले तर्बीयत कारों को ही पायलट लाईसैंस दिया जाता है।

शहरी तरक़्क़ी के वज़ीर वीलार रवी ने वकफ़ा-ए-सवालात के दौरान बताया कि किसी भी तर्बीयत पाने वाले को लाईसैंस देने से क़बल तमाम ज़ाबतों पर सख़्ती से अमल किया जाता है। उन्हों ने कहाकि तर्बीयत हासिल करने वालों को लाईसैंस देने से क़बल तहरीरी इमतिहान पास करना होता है।

इस के इलावा उस की अमली सलाहीयत को भी परखा जाता है। उन्हों ने कहाकि ग़ैर ममालिक में तर्बीयत हासिल करने वाले पाइलटों के इदारे और उन के दस्तावेज़ की गहिरी जांच की जाती है। इस के लिए ग़ैर ममालिक में वाक़्य तर्बीयती इदारे में भेजा जाता है और वहां से तसदीक़ के बाद ही लाईसैंस जारी किया जाता ही। उन्हों ने कहाकि तर्बीयती यूनीवर्सिटीयों और तर्बीयती इदारों के काम काज पर मुतवातिर नज़र रखी जाती है और वक़तन फ़वक़तन इन का ऑडिट किया जाता है।

जिस का मक़सद ये पता लगाना है कि ये फ्लाइंग स्कूल मुक़र्ररा रहनुमा उसूलों पर अमल करते हैं या नहीं। उन्हों ने कहाकि 37 फ्लाइंग क्लबों में से 33 का ऑडिट किया जा चुका है।

मिस्टर रवी ने मैंबरान को यक़ीन दिलाया कि मुस्तक़बिल में कोई भी उड़ान किसी फ़र्ज़ी पायलट के हवाले नहीं की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT