परेशान होने की जरुरत नहीं है शनिवार और रविवार को भी खुले रहेंगे बैंक

परेशान होने की जरुरत नहीं है शनिवार और रविवार को भी खुले रहेंगे बैंक

भ्रष्टाचार और कालेधन को लेकर पीएम मोदी की ओर से 500 और 1000 रुपए के नोटों को बंद किए जाने के ऐलान के बाद देशभर में अफरा-तफरी मची हुई है। मार्केट में शॉपकीपर्स और पेट्रोल पंपों ने 500 और 1000 रुपए के नोट लेना बंद कर दिया है। लोगो को परेशानी से बचाने के लिए आरबीआई ने इसे ध्यान में रखते हुए बैंकों को शनिवार और रविवार को खोले रखने का फैसला किया है। साथ ही रिजर्व बैंक ने कहा है कि देशवासियों को 11 नवंबर से एटीएम में 500 और 2000 रुपये के नए नोट मिलना शुरु हो जाएंगे।

भारतीय रिजर्व बैंक एक गाइडलाइन जारी कर कि इस प्रतिबंध के पीछे सबसे महत्वपूर्ण कारण भी गिनाये है। RBI का कहना है कि अधिक मूल्य के जाली नोटों का बढ़ना और व्यवस्था में अधिक कालाधन का होना है। आरबीआई ने जनता को यह आश्वासन भी दिया कि एक व्यक्ति जितने अधिक मूल्य की नकदी बदलता है, उसे उतने ही मूल्य के नोट मिलेंगे। मसलन 500 रुपये के एक नोट के बदले उसे 100-100 रुपये के पांच नोट मिलेंगे।

रिजर्व बैंक ने कहा, ‘एक व्यक्ति को नकदी में 4,000 रुपये तक ही मिलेंगे और इससे ऊपर की रकम उसके खाते में जमा कर दिए जाएंगे और वह पूरी की पूरी रकम नकदी में नहीं पा सकता। पुराने नोटों को आरबीआई के 19 कार्यालयों में से किसी पर भी और किसी बैंक शाखा या किसी प्रधान डाकघर या उप डाकघर में बदले जा सकते हैं’।

जिन्हें 4,000 रपये से अधिक की नकदी की जरूरत है, वह चेक या इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों जैसे ऑनलाइन बैंकिंग, मोबाइल वॉलेट, आईएमपीएस, क्रेडिट/डेबिट कार्ड आदि के जरिये इसका भुगतान कर सकता है। जिनके पास कोई बैंक खाता नहीं है, वे आवश्यक केवाईसी दस्तावेजों के साथ एक खाता खोल सकते हैं।

Top Stories