Thursday , December 14 2017

पल्लवी मरडर केस में मुग़ल को उम्र क़ैद

मुंबई की एक अदालत ने पल्लवी पुरकायस्थ मर्डर केस में मुजरिम करार दिये गये सज्जाद ए मुगल को उम्र कैद की सजा सुनाई है। 30 जून को अदालत ने सेक्यूरिटी गार्ड मुगल को छेड़छाड़, मुजरिमाना नीयत से दाखिल होने और एक खातून वकील के क़त्ल का मुजर

मुंबई की एक अदालत ने पल्लवी पुरकायस्थ मर्डर केस में मुजरिम करार दिये गये सज्जाद ए मुगल को उम्र कैद की सजा सुनाई है। 30 जून को अदालत ने सेक्यूरिटी गार्ड मुगल को छेड़छाड़, मुजरिमाना नीयत से दाखिल होने और एक खातून वकील के क़त्ल का मुजरिम करार दिया था।

सजा सुनाते वक्त जज ने कहा कि यह मामला रेयरेस्ट ऑफ दि रेयर केस में नहीं आता। ऐसे में मुजरिम को मौत की सजा नहीं दी सकती। पुरकायस्थ के रिश्तेदारों ने मुगल के लिए फांसी की सजा का मुतालिबा किया था।

दो साल पहले एक सीनियरह सरकारी ओलदेदार की बेटी का कत्ल हुआ था। मुल्जिम सज्जाद ए. मुगल जुनूबी मुंबई के वडाला में हिमालयन हाइट्स अपार्टमेंट में काम करता था, जहां उसने 9 अगस्त, 2012 को 25 साला पल्लवी पुरकायस्थ पर हमला कर उसका क़त्ल कर दिया था।

घर में जबरदस्ती घुसने के बाद इसकी शिकायत अपने मंगेतर से करने की धमकी देने पर पुरकायस्थ का क़त्ल कर दिया गया था। मेजिस्ट्रेट वरुशाली जोशी ने 30 जून को मुगल को मुजरिम ठहराया और कहा, ‘उसके खिलाफ क़त्ल, छेड़छाड़ और मुजरिमाना नियत से बिना इजाजत दाखिल होने मामला साबित हो गया है।’

कश्मीर का रहने वाला मुगल उस अपार्टमेंट में सेक्यूरिटी गार्ड का काम करता था और आनेजाने वाली ख्वातीन पर बुरी नजर रखता था।
पुलिस को दिए बयान में मुगल ने कहा था कि वह एक डुप्लिकेट चाबी की मदद से पुरकायस्थ के फ्लैट में घुसा और उनसे जबरदस्ती करने की कोशिश की।

TOPPOPULARRECENT