Thursday , December 14 2017

पश्चिम ने हज को मानव सहिष्णुता का सबसे अच्छा उदाहरण क़रार दिया

रियाद: इस्लामी उग्रवाद, आतंकवाद और शिया, सुन्नी मसलकी मतभेद के परिणामस्वरूप इस्लामी दुनिया में जारी रक्त्पात के परिणामस्वरूप जहां पूरी दुनिया में इस्लाम और मुसलमानों के बारे में नकारात्मक सोच को बढ़ावा देने में वृद्धि हुई है वहीं हज इस अध्याय में हवा का एक ताजा झोंका है जो पश्चिम को भी इस्लामी सहिष्णुता को स्वीकार करने पर मजबूर किया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार अहले मगरिब जो मुसलमानों को केवल युद्ध और चरमपंथ के प्रतीक के रूप पर पेश करते हुए इस्लामोफोबिया से पीड़ित हैं हज जैसे वैश्विक सभा के लाभ को स्वीकार करने लगे हैं।
पश्चिमी दुनिया के दो प्रमुख शोधकर्ता माइकल इलैकज्यो और स्टीफन जीमिकोफ संयुक्त रूप से एक रिपोर्ट तैयार की है जो हज के मानव समाज पर लागू होने वाले प्रभाव का बारीकी से विश्लेषण किया गया है। ” मक्का मुकर्रमा, धर्म और नए आधार पर समाजी संरेखण ” शीर्षक से तैयार की गई रिपोर्ट में इस सवाल पर बहस की गई है कि क्या इस्लामी रिवाज विशेषकर हज जैसा विश्व सभा मानव सहिष्णुता में कोई भूमिका अदा कर सकता है? विशेषज्ञों ने खुद ही इस सवाल का जवाब सकारात्मक दिया है और स्वीकार किया है कि हर साल जमीन के विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित, अलग अलग भाषे बोलने वाले, काले और सफेद, विभिन्न साम्प्रदायिक विचारधारा युक्त दो मिलियन लोगों का एक जगह एक ही पोशाक, एक ही मक़सद और एक ही तरीके में रस्म व रिवाज को अदा करना पूरी दुनिया में मानव सहिष्णुता का सबसे बड़ा और अनूठा उदाहरण है। नि:संदेह हज की भीड़ सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक और मानवीय और इस्लामी सहिष्णुता के इस्लामी दर्शन पर मुहर सत्यापित लगी है क्योंकि दुनिया का कोई दूसरा धर्म ऐसी वैश्विक सहिष्णुता की कोई मिसाल पेश करने में असमर्थ है। हज की सभा इस बात का संदेश है कि आदम के बच्चों में धर्म, रंग, जाति और संप्रदाय के आधार पर कोई अंतर नहीं है और सभी मनुष्य बराबर हैं। तथा कहा कि हज की सभा इस्लाम और दुनिया के दुसरे क्षेत्रों में पाई जाने वाले साम्प्रदायिक संघर्ष को हतोत्साहित करते हुए पूरी मानवता को एक सूत्र में पिरोने की दावत प्रदान करता है।

TOPPOPULARRECENT