Tuesday , December 12 2017

24 परगना सांप्रदायिक हिंसा: मुस्लिम विधायकों व सांसदों पर ममता सरकार का मुंह न खोलने का दबाव

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा व मुहर्रम मौक़े पर हुए सांप्रदायिक दंगों और प्रशासन की विफलता की वजह से तृणमूल कांग्रेस के मुस्लिम विधायकों व सांसदों और अन्य पार्टी के नेताओं में सख्त नाराजगी है। मगर पार्टी हाई कमान की मजबूत पकड़ और कार्रवाई की डर से इस मुद्दे पर ऑन द रिकॉर्ड वे कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार कई मुस्लिम सांसदों व विधायकों ने ऑफ रिकॉर्ड बातचीत में राज्य में हुए दंगों पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि यह सब सरकार की विफलता का परिणाम है, आरएसएस की गतिविधि बढ़ रही है। वे सांप्रदायिक पदों पर लोगों को भड़का रहे हैं मगर तृणमूल कांग्रेस केवल कांग्रेस और वाममोर्चा को खत्म करने की कोशिश में लगी हुई है। कई नेताओं ने प्रतिनिधि को फोन करके दंगों की रिपोर्टिंग की फरमाइश करते हुए कहा कि हम लोग तो मजबूर हैं कम से कम मीडिया में सच्चाई सामने आनी चाहिए। उनका कहना था कि हम कुछ भी करने से अपंग हैं। अगर उन्होंने सरकार की सहमति के बिना कोई भी बयान दिया तो उन्हें किनारे लगा दिया जाएगा और वे कहीं के भी नहीं रहेंगे। एक वरिष्ठ मुस्लिम नेता जिन्होंने कुछ महीने पहले ही कांग्रेस छोड़कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए हैं ने यूएनआई से बात करते हुए कहा कि वे मजबूर हैं और वह अपनी नाव जला कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए हैं। जिस तरीके से आम आदमी बेबस है उसी तरह हम लोग तृणमूल कांग्रेस में मजबूर हैं, कुछ भी बोलने की हिम्मत की तो किनारे लगा दिए जाएंगे। बल्कि आम आदमी का इस अत्याचार के खिलाफ विरोध भी बढ़ा सकता है लेकिन हम कुछ भी नहीं कर सकते हैं।
उल्लेखनीय है कि दुर्गा पूजा और मुहरम के बाद पश्चिम बंगाल के 8 जिलों में सिलसिलेवार सांप्रदायिक दंगे उत्पन्न हुए हैं। उत्तरी 24 परगना के हाजी नगर, मारवाड़ी कल, बिल्लौर पारा और उसके आसपास के क्षेत्रों में कई दिनों तक बमबारी होती रही जिसके कारण दर्जनों दुकानें नष्ट हो गईं और दर्जनों घरों को तोड़ दिया गया। बल्कि बिल्लौर पारा जहां 30 से 40 लोगों की मुस्लिम आबादी है उन्हें बेघर कर दिया गया है., राजनीतिज्ञ उन लोगों को अपने मकान में निवास करने से विकलांग हैं
तृणमूल कांग्रेस के सांसद ने कहा कि राज्य में सांप्रदायिकता का मुकाबला करने के लिए हमें क्रॉस रोड पर वर्कशॉप करने की जरूरत है. बंगाल की जनता प्यार और भाईचारा के साथ रहना पसंद करती है। यह लोग किसी भी तरह की सांप्रदायिकता के सख्त खिलाफ हैं।

TOPPOPULARRECENT