पश्चिम बंगाल: हनुमान जयंती के शोभायात्रा पर दो दिन का प्रतिबंध, मस्जिदों की बढ़ाई गई सुरक्षा

पश्चिम बंगाल: हनुमान जयंती के शोभायात्रा पर दो दिन का प्रतिबंध, मस्जिदों की बढ़ाई गई सुरक्षा

लगातार सांप्रदायिकता की आग जल में रहे पश्चिम बंगाल में हनुमान जयंती को देखते हुए सुरक्षा बढ़ा दी गई है। राम नवमी के दौरान हुई हिंसा से सबक लेते हुए राज्य की पुलिस ने शनिवार को मनाए जाने वाले हनुमान जयंती समारोह के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं।

इतना ही नहीं पश्चिम बंगाल पुलिस ने अगले दो दिनों के लिए सभी मंदिरों, मस्जिदों और धार्मिक संस्थानों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान की है और सशस्त्र शोभा यात्राओं और शोभा यात्रियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

आसनसोल-दुर्गापुर पुलिस कमिश्नर एलएन मीणा ने कहा कि हमने प्रदेश में शांति बनाए रखने के लिए कोलकाता और राज्य के अन्य हिस्सों से अतिरिक्त बल बुलवाया है, इस दौरान केवल बिना हथियारों के जुलूस को ही अनुमति होगी।

उन्होंने बताया कि पुलिस उन सभी शरारती तत्वों पर बारीकी से नजर बनाए हुए है, जो हिंसा फैलाने का प्रयास कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि 60 से ज्यादा व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है और पुलिस की छापेमारी जारी है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को प्रदेश के डीजीपी, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर), गृह सचिव और मुख्य सचिव के साथ बैठक की और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए थे।

राम नवमी उत्सव के दौरान हुई हिंसा की घटनाओं को देखते हुए बीजेपी और विश्व हिन्दू परिषद (VHP) ने हनुमान जयंती के अवसर पर किसी भी बड़ी रैली को नहीं निकालने का फैसला किया है। दोनों पार्टी और संगठन ने अपने कार्यक्रमों को मंदिर और स्थानीय क्लबों तक सीमित रखने का फैसला किया है।

पश्चिम बंगाल में भाजपा के महासचिव सायंतन बासु ने कहा कि हनुमान जयंती पर पार्टी कोई शोभा यात्रा नहीं निकालेगी। वहीं, राज्य वीएचपी अध्यक्ष सचिंद्रनाथ सिंह ने बताया कि हनुमान जयंती पर शोभा यात्रा निकालने से गलत संदेश जाएगा। हालांकि, सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में हनुमान जयंती मनाने का फैसला किया है।

Top Stories