Friday , December 15 2017

पसमांदा तबक़ात को 33 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात , ए पी असेंबली में क़रारदाद मंज़ूर

आंध्र प्रदेश क़ानूनसाज़ असेंबली मीटिंग ग़ैर मुअय्यना मुद्दत के लिए मुल्तवी कर दिया गया। क़ब्लअज़ीं हुए सख़्त मुबाहिस ओ‍ एहतेजाज के दौरान आंध्र प्रदेश तसर्रुफ़ बिल मंज़ूर करलिए जाने के फ़ौरी बाद स्पीकर आंध्र प्रदेश क़ानूनसाज़ असेंबली

आंध्र प्रदेश क़ानूनसाज़ असेंबली मीटिंग ग़ैर मुअय्यना मुद्दत के लिए मुल्तवी कर दिया गया। क़ब्लअज़ीं हुए सख़्त मुबाहिस ओ‍ एहतेजाज के दौरान आंध्र प्रदेश तसर्रुफ़ बिल मंज़ूर करलिए जाने के फ़ौरी बाद स्पीकर आंध्र प्रदेश क़ानूनसाज़ असेंबली डॉ के सेवा प्रसाद राव‌ ने एवान की कार्रवाई को ग़ैर मुअय्यना मुद्दत के लिए मुल्तवी करने का एलान किया।

क़ानूनसाज़ इदारों में पसमांदा तबक़ात के लिए 33.33 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने का मुतालिबा करते हुए आज एवान में क़रारदाद मंज़ूर की गई। क़ब्लअज़ीं एवान में इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए चीफ़ मिनिस्टर एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि पसमांदा तबक़ात के लिए तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी वग़ैरा तेलुगु देशम पार्टी के ज़रीये ही मुम्किन होसकेगी।

उन्होंने कहा कि पसमांदा तबक़ात के मुलाज़मीन को आला ओहदों पर फ़ाइज़ करने के लिए तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए जाऐंगे आदरना इस्कीम को दुबारा शुरू किया जाएगा।

दस्तकारों की मौत वाक़्ये होने पर 5 लाख रुपये ज़ख़मी होने पर एक लाख रुपये तक एक्स ग्रेश्या अदा करने का तीक़न दिया। समुंद्र में मछलियां पकड़ने के लिए जाने वाले मछेरों को डीज़ल पर सब्सीडी दी जाएगी। माह जून में मुफ़्त चावल ग़ज़ाई सहूलतें फ़राहम करने के साथ साथ समुंद्र में मछेरों की मौत वाक़्ये होने पर अब तक सात साल बाद उन्हें मुआवज़ा फ़राहम किया जाता है लेकिन आइन्दा से मछेरों की समुंद्र में मौत वाक़्ये होने पर दो साल बाद मुआवज़ा फ़राहम करने का चीफ़ मिनिस्टर एन चंद्रबाबू नायडू ने एलान किया।

उन्होंने ( चंद्रबाबू नायडू) वाई एस राज शेखर रेड्डी दौरे हुकूमत का तज़किरा करते हुए कहा कि डॉ राज शेखर रेड्डी हुकूमत में पसमांदा तबक़ात के साथ इंसाफ़ नहीं हुआ। दस्तकारों को मुनासिब तर्बीयत दे कर क़वाइद के मुताबिक़ रक़ूमात फ़राहम किए जाऐंगे।

इस तरह एवान में पसमांदा तबक़ात जो कि तेलुगु देशम पार्टी के लिए रीढ़ की हड्डी तसव्वुर किए जाते हैं चीफ़ मिनिस्टर आंध्र प्रदेश एन चंद्रबाबू नायडू ने मुतअद्दिद एलानात किए और दस्तूरी इदारों में पसमांदा तबक़ात के लिए 33 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने का मुतालिबा करते हुए क़रारदाद पेश करने पर इस क़रारदाद को एवान में मुत्तफ़िक़ा तौर पर मंज़ूर करली गई।

TOPPOPULARRECENT