Thursday , November 23 2017
Home / Uttar Pradesh / पसमानदा और हरिजन तालिबे इल्म को मिलेगा लैपटॉप

पसमानदा और हरिजन तालिबे इल्म को मिलेगा लैपटॉप

रांची 11 अगस्त : वजीरे आला हेमंत सोरेन ने क़बायली मेधावी तालिबे इल्म को लैपटॉप देने की ऐलान की है। इस पर अपोजीशन ने कहा है कि क़बायली तालिबे इल्म के साथ-साथ दीगर तबकों के बे सहारा तालिबे इल्म का भी ख्याल रखा जाना चाहिए।

रांची 11 अगस्त : वजीरे आला हेमंत सोरेन ने क़बायली मेधावी तालिबे इल्म को लैपटॉप देने की ऐलान की है। इस पर अपोजीशन ने कहा है कि क़बायली तालिबे इल्म के साथ-साथ दीगर तबकों के बे सहारा तालिबे इल्म का भी ख्याल रखा जाना चाहिए।

वहीं इत्तेहदी पार्टियों का कहना है कि बाद में तमाम तबकों के लिए मंसूबा बनायी जा सकती है। वजीरे खज़ाना ने कहा है कि भले ही बजट में तजवीज नहीं है, पर वजीरे आला की ऐलान पर तजवीज आयेगा, तो फंड की निज़ाम भी की जायेगी। उन्होंने दीगर तबकों के तालिबे इल्म को भी यकीन दिलाया है।

तजवीज आने के बाद गौर : राजेंद्र सिंह

वजीरे आला की तरफ से दर्ज़ फेहरिस्त तालिबे इल्म को लैपटॉप दिये जाने की ऐलान पर वजीरे खज़ाना राजेंद्र सिंह ने कहा कि वजीरे आला ने जब ऐलान की है, तो इसके लिए बजट बहुत बड़ी मसला नहीं है। यह सही है कि बजट में तजवीज नहीं है, पर वजीरे आला चाहते हैं, तो तजवीज भेजेंगे।

तजवीज आने के बाद वजीरे खज़ाना के तौर में फंड की इंतेजाम करना हमारा फर्ज़ है, जिसे वह जरूर निभायेंगे. कई मंसूबों की रकम लैप्स हो जाती है। कई मंसूबों के फंड भी हैं, जिनमें दर्ज़ फेहरिस्त ज़ात बहबूद, आकलियाती बहबूद, दीगर बैकवर्ड बहबूद और ख़वातीन बहबूद के फंड शामिल होते हैं। इसमें कोई मसला नहीं है कि क़बायली तालिबे इल्म को लैपटॉप दिया जाये।

तमाम मेधावी तालिबे इल्म को मिले लैपटॉप : अर्जुन मुंडा

साबिक़ वजीरे आला और भाजपा लीडर अर्जुन मुंडा ने कहा कि हुकूमत की तरफ से तालिबे इल्म को लैपटॉप देने में किसी भी तरह का तासीब नहीं होना चाहिए। तमाम मेधावी तालिब इल्म को इसका फायदा मिलना चाहिए। नौजवान मुल्क की ताकत है। मुल्क को आगे बढ़ाने की जिम्मेवारी उनके कंधों पर है।

पसमानदा और हरिजन तालिबे इल्म को मिले लैपटॉप मिलेगा

जदयू तरीका सेल के साबिक़ सदर अशोक कुमार ने वजीरे आला हेमंत सोरेन से पसमानदा और हरिजन तबके के मेधावी तालिबे इल्म को लैपटॉप देने की दरख्वास्त की है। उन्होंने कहा कि इस तबके के तालिबे इल्म को सरकारी सहूलियत देने से महरूम करना सही कदम नहीं है।
मिस्टर कुमार ने वजीरे आला की ऐलान का खैरमख्दम करते हुए इसमें पसमानदा और हरिजन तबके के तालिबे इल्म को शामिल करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि हुकूमत अगर इस मुतालबे को पूरी करती है, तो अदम मौजूदगी की वजह इन्फॉर्मेशन टेक्नालजी के इस दौर से अनजान तालिबे इल्म को भी आगे बढ़ने का मौका मिलेगा।

TOPPOPULARRECENT