Tuesday , December 12 2017

पहली बुकिंग पर 435 रुपये

झारखंड के पांच अज़ला में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर ऑफ एलपीजी सब्सिडी (डीबीटीएल) की शुरुआत एक अक्तूबर से की गयी। रांची, लोहरदगा, खूंटी, हजारीबाग और रामगढ़ के एलपीजी सिलिंडर गाहकों के बैंक खाते में रक़म आयेगी। यह जानकारी देते हुए इ

झारखंड के पांच अज़ला में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर ऑफ एलपीजी सब्सिडी (डीबीटीएल) की शुरुआत एक अक्तूबर से की गयी। रांची, लोहरदगा, खूंटी, हजारीबाग और रामगढ़ के एलपीजी सिलिंडर गाहकों के बैंक खाते में रक़म आयेगी। यह जानकारी देते हुए इंडियन ऑयल (एलपीजी) के डीजीएम डीके साह और स्टेट लेबल को-ऑर्डिनेटर आरके शाहाब ने बताया कि आज बुकिंग के साथ ही गाहकों के बैंक खाते में 435 रुपये जमा हो गये। यह रक़म गाहकों को महज़ पहली बुकिंग पर ही मिलेगी। सिलिंडर की डिलिवरी मिलने पर गाहकों को 1099 रुपये चुकाने होंगे। इसके दो दिन के अंदर गाहक के बैंक खाते में 629.25 रुपये जमा हो जायेंगे। यह रकम गाहकों को हर डिलिवरी के बाद मिलेगी।

अक्तूबर महीने के लिए सब्सिडी की रकम 629.25 रुपये तय की गयी है। वहीं जिन गाहकों ने अभी इसमें खाता अटैच नहीं किया है, उन्हें पुराने सिस्टम के मुताबिक ही 437.50 रुपये अदा कर सिलिंडर मिलेगा। यह सहूलत तीन महीने तक ही रहेगी। एक जनवरी के बाद तमाम को डीबीटीएल तरफ से ही सब्सिडी रकम मिलेगी। जो डीबीटीएल में इनरोल नहीं होंगे, उन्हें बाजार शरह पर सिलिंडर फरोख्त करना होगा। दूसरे मरहले में एक नवंबर से बोकारो, सरायकेला-खरसावां, गुमला, गढ़वा, दुमका, धनबाद व पलामू में इसे लागू किया जायेगा। प्रेस कोन्फ्रेंस में कंपनी के चीफ़ मैनेजर एसपी रमन, मैनेजर जेएन सिंह, शुभम काले समेत दीगर लोग मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT