Sunday , December 17 2017

पहले टेस्ट का गवाह बनेगा रांची, स्कूलों और संस्थानों को मुफ्त पास

रांची : महेंद्र सिंह धोनी ने यहां स्टेडियम के उद्घाटन के दौरान नगाड़ा बजाया था और उनकी यह छवि सभी स्थानीय लोगों के जेहन में है, लेकिन चार साल बाद अब यह शहर भारत का 26वां टेस्ट केंद्र बनने जा रहा है, तो भी यहां का मूड बहुत ही फीका है। रांची दो दिन के अंदर बॉर्डर-गावस्कर ट्रोफी के लिए भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरे क्रिकेट टेस्ट के जरिए टेस्ट पदार्पण करने जा रहा है, लेकिन शहर का सबसे लोकप्रिय बेटा दिल्ली में घरेलू वनडे में अपनी टीम की अगुवाई करने में व्यस्त होगा।

वर्ष 2014 के अंत में धोनी ने छोटे प्रारूप में अपना करियर बढ़ाने के लिए टेस्ट नहीं खेलने का फैसला किया था और इस समय वह दिल्ली में है और बुधवार से विजय हजारे ट्रोफी के क्वॉर्टरफाइनल में विदर्भ के खिलाफ खेलेंगे। रांची टेस्ट की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं और निश्चित रूप से धोनी की कमी खलेगी जिसका अंदाजा टिकट काउंटर के खाली होने से लगाया जा सकता है।

धोनी के बचपन के कोच केशव बनर्जी ने कहा, ‘यह सब धोनी की वजह से ही है कि हम यहां पहले टेस्ट की मेजबानी कर रहे हैं। उसकी प्रसिद्धि ने शहर को अंतरराष्ट्रीय मानचित्र पर ला दिया है, लेकिन इस समय हम चाहते हैं कि वह नई दिल्ली में अच्छा प्रदर्शन करे। साथ ही हम उम्मीद करते हैं कि रांची टीम इंडिया के लिए भाग्यशाली साबित हो।’

राज्य क्रिकेट संघ ने स्कूलों और संस्थानों को मुफ्त पास वितरित किए हैं, जिसमें श्यामली स्थित धोनी का स्कूल जवाहर विद्या मंदिर भी शामिल है और इसके सचिव ने कहा कि प्रत्येक दिन 10,000 छात्र स्टेडियम में मौजूद होंगे। झारखंड राज्य क्रिकेट संघ के सचिव देबाशीष चक्रवर्ती ने 40,000 क्षमता के स्टेडियम के बारे में कहा, ‘धोनी यहां से एकमात्र आइकन हैं। निश्चित रूप से इस ऐतिहासिक मौके पर दर्शकों को उसकी कमी खलेगी। लेकिन हम स्टैंड भरने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश कर रहे हैं। हमें कम से 30,000 लोगों के प्रत्येक दिन आने की उम्मीद है.।’

झारखंड राज्य क्रिकेट संघ 18 जनवरी 2013 को भारत और इंग्लैंड के बीच वनडे की पूर्व संध्या में स्टेडियम के उद्घाटन के दौरान हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम की तरह तो नहीं, लेकिन इस मौके पर धोनी को सम्मानित करना चाहता था पर विजय हजारे ट्रोफी में झारखंड के अच्छे प्रदर्शन से ऐसा नहीं हो सका। उन्होंने कहा, ‘हमारी टीम घरेलू वनडे टूर्नमेंट में अहम चरण में हैं और हम चाहते हैं कि धोनी विजय हजारे ट्रोफी के साथ लौटें।’

TOPPOPULARRECENT