Monday , August 20 2018

पहल के बाद भी खाते में नहीं आ रही सब्सिडी, चक्कर काट रहे लोग

रसोई गैस के सारफीन परेशान हैं। डीबीटीएल (पहल) मंसूबा के तहत पोर्टल पर एकाउंट नंबर या आधार नंबर लिंकेज स्टेटस सक्सेस होने के बावजूद कई लोगों के खाते में सब्सिडी के पैसे नहीं पहुंच रहे हैं। कई एजेंसियां सारफीन को कंपनियों के पास भेज

रसोई गैस के सारफीन परेशान हैं। डीबीटीएल (पहल) मंसूबा के तहत पोर्टल पर एकाउंट नंबर या आधार नंबर लिंकेज स्टेटस सक्सेस होने के बावजूद कई लोगों के खाते में सब्सिडी के पैसे नहीं पहुंच रहे हैं। कई एजेंसियां सारफीन को कंपनियों के पास भेज रही हैं। कई एजेंसी वाले इसे बैंक की मसला बता रहे हैं तो कई एजेंसी वाले दोबारा फॉर्म भरने की सलाह दे रहे हैं। अलग-अलग सलाह और सुझाव के चक्कर में गाहकों को समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करें।
खातों में गैस सब्सिडी नहीं पहुंचने के मामले पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के दो अलग-अलग शाखाओं के मैनेजर एक ही बात कहते हैं। उनके मुताबिक- अगर बैंक में फॉर्म जमा किया है तो ही हम स्टेटस फॉलो कर सकते हैं नहीं तो एजेंसी या गैस कंपनी में फॉर्म जमा करने पर बैंकों से ऐसा कोई एक्नॉलेजमेंट, वेरीफिकेशन या फीडबैक नहीं मांगा जाता है। इसलिए बैंकों का रोल लिमिट है और मसला का हल एजेंसी या गैस कंपनी ही कर सकती हैं।

कई को नन सब्सिडी में डाला

‘पहल’ मंसूबा से जुड़ने के लिए अब महज़ तीन हफ्ताह बचे हैं और अभी पटना के तकरीबन 1.5 लाख गाहक मंसूबा से बाहर हैं। पहल मंसूबा से कई लोग इसलिए भी परेशान हैं कि सब्सिडी वाले सारफीन को भी कई एजेंसियों ने नन सब्सिडी में डाल दिया है। ऊपर से एजेंसीवाले दलील दे रहे हैं कि फिर फॉर्म भरना होगा।

बैंक खातों में पैसा पहुंचने में कोई दिक्कत नहीं है। गाखक बेफिक्र रहें और अपनी बुकिंग करें। भीड़ ज़्यादा रहने से इक्का-दुक्का ऐसी मसला हुई होगी तो हम इसका हल कर रहे हैं।
अरुण प्रसाद, मैनेजर (बिहार-झारखंड), इंडेन

TOPPOPULARRECENT