Tuesday , June 19 2018

पहाड़ी शरीफ के करीब हज हाउज़ की तामीर पर तनाजा बरकरार

हैदराबाद 10 जुलाई, ( सियासत न्यूज़) पहाड़ी शरीफ़ के क़रीब औकाफ़ी अराज़ी पर नए हज हाउज़ की तामीर का तनाज़ा अभी बरक़रार है। वज़ीरे अक़लीयती बहबूद अहमद उल्लाह ने अगर्चे ये एलान कर दिया कि पंचायत इदारों के इंतिख़ाबात के बाद पहाड़ी शरी

हैदराबाद 10 जुलाई, ( सियासत न्यूज़) पहाड़ी शरीफ़ के क़रीब औकाफ़ी अराज़ी पर नए हज हाउज़ की तामीर का तनाज़ा अभी बरक़रार है। वज़ीरे अक़लीयती बहबूद अहमद उल्लाह ने अगर्चे ये एलान कर दिया कि पंचायत इदारों के इंतिख़ाबात के बाद पहाड़ी शरीफ़ में हज हाउज़ की इमारत का संगे बुनियाद रखा जाएगा लेकिन इस बारे में रियास्ती हज कमेटी का मौक़िफ़ कुछ और ही है।

वैसे भी गुज़िश्ता एक बरस के दौरान वज़ीरे अक़लीयती बहबूद ने हज हाउज़ के संगे बुनियाद के बारे में मुतअद्दिद मर्तबा एलानात किए जो महज़ अख़बारी एलान की हद तक महिदूद रहे। रियास्ती हज कमेटी ने अपने हालिया इजलास में मुत्तफ़िक़ा तौर पर क़रारदाद मंज़ूर करते हुए हुकूमत से मुतालिबा किया था कि हज हाउज़ की तामीर के लिए क़ल्ब शहर में उसे सरकारी अराज़ी अलॉट की जाए। हज कमेटी ने हुकूमत के पास तीन तजावीज़ पेश कीं।

पहली तजवीज़ क़ल्ब शहर में सरकारी अराज़ी का अलाटमेंट, दूसरी तजवीज़ मौजूदा हज हाउज़ से मुत्तसिल ख़ाली अराज़ी पर तामीर की इजाज़त और आख़िरी सूरत में पहाड़ी शरीफ़ की मौजूदा अलॉट कर्दा अराज़ी पर तामीर शामिल है। बताया जाता है कि हज कमेटी ने इन तजावीज़ पर मुश्तमिल क़रारदाद को हुकूमत के पास रवाना कर दिया है।
वाज़ेह रहे कि रियास्ती हज कमेटी की मीयाद 15 अगस्ट को ख़त्म हो जाएगी। इस के बाद हुकूमत कमेटी की तौसीअ या फिर से कमेटी तशकील देने के बारे में फ़ैसला कर सकती है। बताया जाता है कि कमेटी की तौसीअ का मसला भी हुकूमत के ज़ेरे ग़ौर है।

सितंबर के आख़िरी हफ़्ता में हज 2013 के लिए हज कैंप की सरगर्मीयों का आग़ाज़ हो जाएगा और इस मर्तबा हज हाउज़ नामपल्ली और इस के बाहर खुली अराज़ी पर शेड तामीर करते हुए आज़मीन की रिहायश के लिए इस्तिमाल करना पड़ेगा।

TOPPOPULARRECENT