Wednesday , January 17 2018

पाकिस्तानी अफ़्वाज की हिंदूस्तानी चौकियों पर फायरिंग

जम्मू, २७ नवंबर (पीटीआई) पाकिस्तान ने एक बार फिर आदत से मजबूर होकर जंग बंदी की ख़िलाफ़वर्ज़ी करते हुए दस हिंदूस्तानी चौकियों को निशाना बनाया । ज़िला पूंछ में वाकेय् हिंद-ओ-पाक सरहद से करीब तकरीबन 6000 राउंड्स गोलियां चलाई गयी।

जम्मू, २७ नवंबर (पीटीआई) पाकिस्तान ने एक बार फिर आदत से मजबूर होकर जंग बंदी की ख़िलाफ़वर्ज़ी करते हुए दस हिंदूस्तानी चौकियों को निशाना बनाया । ज़िला पूंछ में वाकेय् हिंद-ओ-पाक सरहद से करीब तकरीबन 6000 राउंड्स गोलियां चलाई गयी।

याद रहे कि हिंद व पाक सरहदी मुआहिदा का इतलाक़ 26 नवंबर 2003 को हुआ था और एक ऐसे मौक़ा पर जब इस मुआहिदा की नवीं सालगिरा मनाई जाने वाली है, पाकिस्तान की जानिब से शदीद फायरिंग सिवाए ख़िलाफ़वर्ज़ी के और कुछ नहीं है। जारीया साल के दौरान पाकिस्तान की जानिब से फायरिंग का ये शदीद तरीन वाक़िया था।

दरी असना पी आर ओ डीफेंस मिस्टर एस एन अचार्य ने कहा कि पाकिस्तानी अफ़्वाज ने मीडियम और हैवी मशीनगनों से दस हिंदूस्तानी चौकियों को निशाना बनाया जो एल ओ सी के करीब वाकेय् ( स्थित)हैं।

उन्होंने गुज़श्ता शब तकरीबन चार घंटों तक मुतवातिर फायरिंग का सिलसिला जारी रखा। ताज्जुब ख़ेज़ बात ये है कि पाकिस्तान ने जंग बंदी की ख़िलाफ़वर्ज़ी करने में ज़रा बराबर हिचकिचाहट का मुज़ाहिरा नहीं किया । सरहदी चौकियों पर तैनात हिंदूस्तानी फ़ौजियों के पास भी सिवाए इसके कोई और मुतबादिल नहीं था कि फायरिंग का जवाब फायरिंग से दिया जाए।

हालाँकि फायरिंग में किसी जानी यह माली नुक़्सान की इत्तिला नहीं है लेकिन इसके बावजूद जंग बंदी की ख़िलाफ़वर्ज़ी ने दिलों पर ज़ख्म ज़रूर लगाए हैं। क़बल अज़ीं 20 नवंबर को भी पाकिस्तानी अफ़्वाज ने जंग बंदी की ख़िलाफ़वर्ज़ी करते हुए गुल पर इलाक़ा में फायरिंग की थी।

TOPPOPULARRECENT