Saturday , September 22 2018

पाकिस्तानी तैय्यारों की मताद द (दो) मरतबा हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हदूद की ख़िलाफ़वर्ज़ी

पाकिस्तानी फ़ौजी तैय्यारों (विमानो) ने इस साल दो मर्तबा हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हुदूद (Indian air space) की ख़िलाफ़वर्ज़ी की है जबकि गुज़श्ता ( पिछले) तीन साल के दौरान इस तरह ख़िलाफ़वर्ज़ी के जुमला 23 वाक़्यात (घटनांये) पेश आ चुके हैं। मर्कज़ी हुकूमत ( केंद्

पाकिस्तानी फ़ौजी तैय्यारों (विमानो) ने इस साल दो मर्तबा हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हुदूद (Indian air space) की ख़िलाफ़वर्ज़ी की है जबकि गुज़श्ता ( पिछले) तीन साल के दौरान इस तरह ख़िलाफ़वर्ज़ी के जुमला 23 वाक़्यात (घटनांये) पेश आ चुके हैं। मर्कज़ी हुकूमत ( केंद्र सरकार) ने आज लोक सभा को इस बात से वाक़िफ़ करवाया।

एक तहरीरी (लिखित) जवाब में मर्कज़ी वज़ीर-ए-दिफ़ा (रक्षा मंत्री) ए के अनटोनी ने कहा कि तीन साल 2009१1 के दौरान और मौजूदा साल के दौरान जुमला 23 वाक़्यात ( घटनायें) जोकि हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हदूद (Indian Air space) की ख़िलाफ़वर्ज़ी में आते हैं, पाकिस्तानी तैय्यारों (विमानों) की जानिब से पेश आ चुके हैं।

वज़ीर-ए-दिफ़ा (रक्षा मंत्री) ए के अनटोनी ने बताया कि इन ख़िलाफ़वर्ज़ी के वाक़्यात ( घटनायें) को हिंदूस्तानी डीफेंस की जानिब से पेश किया जा चुका है जो कि मुसद्दिक़ा बात है। पाकिस्तानी तैय्यारों की जानिब से हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हदूद (Indian air space) की ख़िलाफ़वर्ज़ी के बारे में मर्कज़ी वज़ीर-ए-दिफ़ा (रक्षा मंत्री) से लोक सभा में सवाल किए जाने पर ए के अनटोनी ने इस की तफ्सीलात पेश करते हुए कहा कि पाकिस्तानी फ़ौजी तैय्यारों ने साल 2009 में आठ मर्तबा हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हदूद (Indian air space) की ख़िलाफ़वर्ज़ी की है।

ख़िलाफ़वर्ज़ी के ज़्यादा वाक़्यात साल 2013 में पेश आ चुके हैं जबकि पाकिस्तानी तय्यारों ने 11 मर्तबा हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हुदूद की ख़िलाफ़वर्ज़ी की है। साल 2011 में हिंदूस्तानी फ़िज़ाई हुदूद की ख़िलाफ़वर्ज़ी के दो वाक़्यात ( घटनायें) पेश आए हैं। फ़ौजी मश्क़ों शूरवीर के बारे में सवाल पर अनटोनी ने इस को फ़ौजी तर्बीयत से ताबीर ( कल्पना) किया है।

TOPPOPULARRECENT